क्यों तेजी से लोग हो रहे कैंसर के शिकार? एक साल में तीन गुना बढ़े केस

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019 द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक एनसीडी क्लिनिक्स ने 2017 से लेकर 2018 के बीच कैंसर के मामलों की पहचान की है.

प्रतीकात्मक तस्वीर
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 03 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 12:13 PM IST

देशभर में सामान्य कैंसर समेत ओरल, सर्वाइकल और ब्रेस्ट कैंसर के मामलों में तेजी से वृद्धि हुई है. नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019 द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक एनसीडी क्लिनिक्स ने 2017 से लेकर 2018 के बीच कैंसर के मामलों की पहचान की है. ये रिपोर्ट बताती है कि इस एक साल के अंतराल में कैंसर के मामले 324% यानी तीन गुना से भी ज्यादा बढ़ गए हैं.

रिपोर्ट की मानें तो पिछले साल एनसीडी क्लिनिक्स में 6.5 करोड़ लोगों ने कैंसर की जांच करवाई थी, जिसमें 1.6 लाख लोगों में सामान्य कैंसर पाया गया था. यानी लोगों में सामान्य कैंसर के अलावा भी दूसरे प्रकार के कैंसर तेजी से फैल रहे हैं.

जबकि साल 2017 में कैंसर के कुल 39,635 मामले ही देखने को मिले थे. 2017 से लेकर 2018 के बीच एनसीडी क्लिनिक्स में आए कैंसर पीड़ितों की संख्या भी दोगुनी हुई है.

पहले वर्ष जहां कैसर के कुल 3.5 करोड़ मामले देखने को मिले थे, वहीं अगले वर्ष वो बढ़कर 6.6 करोड़ हो चुके थे. विशेषज्ञों का मानना है कि लोगों के बदलते लाइफस्टाइल, स्ट्रेस, खान-पान की आदतें, एल्कोहल और तंबाकू का सेवन इसकी बड़ी वजह रहा है.

कैंसर के सबसे ज्यादा मामले गुजरात से सामने आए हैं. साल 2017 में गुजरात में 3,939 कैंसर पीड़ितों की पुष्टि हुई थी. वहीं, 2018 में ये संख्या बढ़कर 72,169 हो गई.

यानी गुजरात में कॉमन कैंसर के नए मामले 68,230 बढ़े हैं. गुजरात के बाद सबसे खराब हाल कर्नाकट, महाराष्ट्र, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल का रहा है.

Read more!

RECOMMENDED