हरियाणा के बाद अब उत्तराखंड में भी NRC की चर्चा, सरकार कर रही विचार

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एनआरसी को घुसपैठ रोकने का सबसे अच्छा तरीका बताते हुए कहा कि उत्तराखंड भी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से घिरा है. जरूरत पड़ी तो हम भी प्रदेश में एनआरसी लागू करेंगे.

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (फोटोः आज तक)
दिलीप सिंह राठौड़
  • देहरादून,
  • 16 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 10:47 PM IST

  • मुख्यमंत्री ने कहा, मंत्रिमंडल से चर्चा कर लेंगे निर्णय
  • हरियाणा की सरकार कर चुकी है NRC का ऐलान

असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) लागू किए जाने के बाद अब देश में इसे लेकर एक नई बहस शुरू हो गई है. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश में एनआरसी लागू करने का ऐलान कर दिया है, जबकि कई प्रदेशों में एनआरसी लागू करने की बात की जाने लगी है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा जरूरत पड़ने पर एनआरसी लागू करने की बात कहे जाने के बाद अब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी उसी राह पर चलते दिख रहे हैं. मुख्यमंत्री रावत ने सोमवार को राजधानी देहरादून में कहा कि उत्तराखंड में भी एनआरसी लागू किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि हम इस संबंध में मंत्रिमंडल से विचार विमर्श करेंगे. मंत्रिमंडल से चर्चा के बाद ही इस बारे में कोई फैसला लिया जाएगा. मुख्यमंत्री रावत ने एनआरसी को घुसपैठ रोकने का सबसे अच्छा तरीका बताते हुए कहा कि उत्तराखंड भी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से घिरा है. जरूरत पड़ी तो हम भी प्रदेश में एनआरसी लागू करेंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग भी उत्तराखंड में अनाधिकृत रूप से रहते पाए जाएंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. गौरतलब है कि उत्तराखंड, विशेषकर उधम सिंह नगर जिले के कई क्षेत्रों में बांग्लादेशी नागरिकों की संख्या अधिक है. बांग्लादेश गठन के वक्त बड़ी तादाद में लोग उत्तराखंड आ गए थे.

बता दें कि असम में एनआरसी लागू किए जाने और अंतिम सूची का प्रकाशन किया जा चुका है. अंतिम सूची के प्रकाशन के बाद इसे लेकर कई विवाद भी खड़े हुए. अब कई अन्य राज्यों में भी एनआरसी लागू करने की बात की जाने लगी है. इसे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा असम की राजधानी गुवाहाटी में दिए गए उस बयान से भी जोड़कर देखा जा रहा है, जिसमें उन्होंने पूरे देश से घुसपैठियों को निकालने की बात कही थी.

Read more!

RECOMMENDED