भारत में 3.23 लाख वाहन वापस मंगाएगी फॉक्सवैगन

ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआई) ने अपनी जांच में पाया कि फॉक्सवैगन द्वारा भारत में विनिर्मित ई189 इंजन वाली डीजल कारों में ‘त्रुटिपूर्ण उपकरण’ लगे थे जिससे सड़कों पर वाहन चलाते समय उनसे अत्यधिक नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जन हो सकता है.

ब्रजेश मिश्र
  • नई दिल्ली,
  • 02 दिसंबर 2015,
  • अपडेटेड 9:01 AM IST

वाहन प्रदूषण के मुद्दे पर विवादों का सामना कर रही जर्मनी की वाहन निर्माता कंपनी फॉक्सवैगन भारत में 3,23,700 वाहनों को वापस मंगाएगी. सरकार ने कंपनी के वाहनों की जांच का आदेश दिया था और जांच में पाया गया कि कंपनी ने डीजल वाहनों में उत्सर्जन परीक्षण को चकमा देने वाला उपकरण लगा रखा था.

कंपनी भारत में तीन ब्रांड- ऑडी, स्कोडा और फॉक्सवैगन के वाहनों को वापस मंगाएगी. कंपनी ने ईए189 इंजन वाले सभी वाहनों को भारतीय बाजार में स्वैच्छिक रूप से वापस मंगाने की घोषणा की है. कंपनी ने कहा कि ये वाहन भारत में 2008 से नवंबर, 2015 के दौरान बेचे गए हैं. इसके तहत फॉक्सवैगन, ऑडी और स्कोडा मॉडल के वाहन वापस मंगाए जाएंगे. कंपनी ने कहा है कि इन वाहनों में ऐसा सॉफ्टवेयर लगा है जिसे बदले जाने की जरूरत है.

ये है कारों की बिक्री का आंकड़ा फॉक्सवैगन इंडिया ने बयान में कहा, ‘फॉक्सवैगन ग्रुप इंडिया के रिकॉर्ड के अनुसार 2008 से नवंबर, 2015 तक भारत में कंपनी ने फॉक्सवैगन मॉडल की 1,98,500, स्कोडा की 88,700 और ऑडी के विभिन्न माडलों की 36,500 कारें बेची हैं. इन वाहनों में ईए189 इंजन लगा है. इनमें 1.2 लीटर, 1.5 लीटर, 1.6 लीटर तथा 2.0 लीटर के डीजल इंजन लगे हैं.

ARAI की रिपोर्ट में हुआ खुलासा वाहन परीक्षण एजेंसी एआरएआई द्वारा रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद मंगलवार को कंपनी के कार्यकारियों और भारी उद्योग विभाग के अधिकारियों के बीच एक बैठक हुई. ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एआरएआई) ने अपनी जांच में पाया कि फॉक्सवैगन द्वारा भारत में विनिर्मित ई189 इंजन वाली डीजल कारों में ‘त्रुटिपूर्ण उपकरण’ लगे थे जिससे सड़कों पर वाहन चलाते समय उनसे अत्यधिक नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जन हो सकता है. कंपनी ने अपने द्वारा उठाए जाने वाले कदमों का जिक्र करते हुए कहा कि उसने अपने निष्कर्ष और ईए189 डीजल इंजन के संभावित समाधान के बारे में भारत सरकार-भारी उद्योग मंत्रालय तथा एआरएआई को सौंपे हैं.

अब तक कई कंपिनयां वापस मंगा चुकी हैं वाहन समूह पहले भारी उद्योग मंत्रालय को तकनीकी समाधान सौंपेगा. एक बार सक्षम अधिकारियों द्वारा इनको मंजूरी के बाद फॉक्सवैगन समूह कदम दर कदम तरीके से आवश्यक कार्रवाई करेगा. उल्लेखनीय है कि फॉक्सवैगन पहले ही यह स्वीकार चुकी है कि दुनियाभर में उसकी 1.1 करोड़ डीजल इंजन कारों में ऐसा साफ्टवेयर लगा था जिससे उत्सर्जन परीक्षण में हेराफेरी करने में मदद मिलती है. कंपनी को अमेरिका में 18 अरब डॉलर तक के जुर्माने का सामना करना पड़ा. भारत में अभी तक विभिन्न कंपनियों की ओर से 13.25 लाख से अधिक वाहन वापस मंगाए जा चुके हैं.

- इनपुट भाषा

Read more!

RECOMMENDED