NEWSWRAP: महाराष्ट्र में नहीं बनी सरकार, पढ़ें मंगलवार शाम की 5 बड़ी खबरें

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर फंसा पेंच जब नहीं सुलझा तो आखिरकार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया है. एक दौर की चर्चा के बाद एनसीपी और कांग्रेस ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना रुख स्पष्ट किया. दोनों ही दलों ने कहा कि हमने गठबंधन में चुनाव लड़ा था, पहले हमारी बात हो जाए उसके बाद शिवसेना से होगी चर्चा.

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू (फोटो-ANI)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 12 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 8:52 PM IST

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग गया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की सिफारिश को मानते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन की घोषणा कर दी है. वहीं महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने के राज्यपाल की सिफारिश के खिलाफ शिवसेना सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है. शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा है कि उन्हें दावा पेश करने के लिए सिर्फ 24 घंटे का समय दिया गया, जबकि बीजेपी को 48 घंटे का वक्त दिया गया था. शिवसेना ने आरोप लगाया कि राज्यपाल ने सरकार बनाने के अवसर से इनकार करने के लिए बीजेपी के इशारे पर जल्दबाजी में काम किया. साथ ही पढ़ें मंगलवार शाम की 5 बड़ी खबरें.

1. महाराष्ट्र में शिवसेना को झटका, एनसीपी-कांग्रेस बोली, सरकार बनाने पर अभी फैसला नहीं

मुंबई में आज एनसीपी और कांग्रेस नेताओं की बैठक हुई. इसमें महाराष्ट्र में सरकार गठन पर चर्चा हुई. इस मीटिंग के बाद पत्रकारों से बात करते हुए एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि शिवसेना ने 11 नंवबर को हमसे आधिकारिक तौर पर संपर्क किया था. उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र की राजनीतिक हालात पर हमारी चर्चा हुई. इतने महत्वपूर्ण मुद्दे पर व्यापक चर्चा हुई. फैसले से पहले सभी पहलुओं पर चर्चा हुई. शिवसेना ने हमसे कल संपर्क किया था.

2.झारखंड में भी दिखने लगा महाराष्ट्र का असर, BJP की राह हुई टेढ़ी

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनावों के परिणामों और उसके बाद सरकार गठन में मिली नाकामयाबी सिर्फ एक राज्य तक सीमित होकर रह जाने वाली बात नहीं है. आने वाले समय में जिन भी राज्यों में चुनाव होंगे वहां क्षेत्रीय दल अब ज्यादा मजबूती के साथ अपनी शर्तें रखते नजर आएंगे. यह बात झारखंड में चुनावों की घोषणा के बाद से साबित होती भी नजर आ रही है.

3.CM योगी से मिले मुस्लिम धर्मगुरु, अयोध्या में जमीन को लेकर रखी अहम मांग

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर शनिवार (9 नवंबर) को सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आ चुका है. अयोध्या में यह विवाद सदियों से चला आ रहा था. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन का मालिक रामलला विराजमान को माना है. जबकि सुन्नी वफ्फ बोर्ड को कोर्ट ने अयोध्या में ही अलग जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है.

4.JNU छात्र कर रहे बड़े आंदोलन की तैयारी, जानें- किनसे मिला समर्थन

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि पर छिड़ा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब स्टूडेंट्स के साथ जेएनयू शिक्षकों के अलावा विश्वभारती विश्वविद्यालय के छात्र और विभिन्न छात्र संगठन भी समर्थन में आ गए हैं. सोमवार को जेएनयू के दीक्षांत समारोह के दिन कैंपस के बाहर छात्रों के साथ पुलिसकर्मियों द्वारा की गई कार्रवाई पर अब बड़े प्रोटेस्ट की तैयारी है. जेएनयू छात्र 14 नवंबर को नेशनल प्रोटेस्ट डे के तौर पर मनाने जा रहे हैं. जानें- कहां कहां से मिल रहा है स्टूडेंट को सहयोग.

5.दीपक चाहर का फिर कमाल, तीन दिन में दूसरी हैट्रिक का कारनामा

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने फिर कमाल कर दिखाया है. 27 साल के इस गेंदबाज ने तीन दिन में दूसरी हैट्रिक लगाने का कारनामा किया है. इससे पहले रविवार को उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 इंटरनेशनल में भारत की ओर से पहली हैट्रिक लगाई थी.

Read more!

RECOMMENDED