असम में पकड़े गए हाथी 'लादेन' की मौत, जंगल में मचा रखा था आतंक

असम के जंगलों में हाथी लादेन ने उत्पात मचा रखा था और कई लोगों की जान ले चुका था. जंगली हाथी की खोज में कई वन्‍य अधिकारी लगे हुए थे. जिसे पिछले हफ्ते बीजेपी विधायक पदम हजारिका के नेतृत्व में चलाए गए ड्रोन अभियान में पकड़ा गया था.

हाथी लादेन की मौत
aajtak.in
  • असम,
  • 18 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 4:06 PM IST

  • जंगल से पिछले हफ्ते पकड़ा गया था हाथी 'लादेन''
  • जंगल में उत्पात मचाकर ली थी कई लोगों की जान

असम के गोलापारा जिले में लोगों के दिलों में खौफ पैदा करने और जंगल में उत्पाद मचाने वाले हाथी 'लादेन' उर्फ कृष्णा की मौत हो गई है. असम के गोलपारा जिले में बीजेपी विधायक की मदद से एक हफ्ते पहले पकड़े गए जंगली हाथी लादेन की रविवार को मौत हो गई.

पिछले हफ्ते पकड़ा गया था हाथी 'लादेन'

असम के जंगलों में हाथी 'लादेन' ने उत्पाद मचा रखा था और कई लोगों की जान ले चुका था. जंगली हाथी की खोज में कई वन्‍य अधिकारी लगे हुए थे. जिसे पिछले हफ्ते बीजेपी विधायक पदम हजारिका के नेतृत्व में चलाए गए ड्रोन अभियान में पकड़ा गया था.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से मिलेगी मौत के कारण की जानकारी

वन विभाग के अधिकारियों ने उसे शांत करने के लिए 11 नवंबर को ट्रैंकुलाइज करने के बाद पकड़ लिया था और ओरांग नेशनल पार्क भेज दिया गया था. वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक उसने रविवार सुबह दम तोड़ दिया. वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही उसकी मौत का कारण पता चलेगा. वहीं कुछ लोगों का आरोप है कि वन विभाग की अनदेखी के चलते हाथी की मौत हुई है.

गोलापारा जिले में मचाया था उत्पात, दहशत में थे लोग

बता दें कि गोलपारा जिले के कई इलाकों में उत्पाती 'लादेन' हाथी ने पिछले कुछ महीनों में कई लोगों की जान ले ली थी. इस हाथी ने कई घर तोड़ दिए थे और खेतों की फसलों को भी भारी नुकसान पहुंचाया था. जिससे लोगों के दिलों में दहशत थी. लोगों का आरोप था कि वन विभाग के लोग उनकी मदद नहीं करते. जिसके बाद इस हाथी को पकड़ने के लिए ऑपरेशन चलाया गया था और पकड़े जाने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली थी.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक असम में 2010 से अब तक संघर्ष में 700 लोगों की मौत चुकी है, जबकि 250 हाथी जान गवां चुके हैं.

Read more!

RECOMMENDED