आतिश तासीर के समर्थन में उतरीं 260 हस्तियां, OCI कार्ड बहाल करने की मांग

लेखक और पत्रकार आतिश अली तासीर का ओवरसीज सिटीजनशीप ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड रद्द किए जाने के विरोध में 260 हस्तियां उतर आई हैं. ओरहान पामुक, मार्गरेट एटवुड, सलमान रुश्दी और अमिताव घोष जैसे लेखकों ने ओसीआई कार्ड रद्द किए जाने पर चिंता जताई है.

लेखक और पत्रकार आतिश अली तासीर (फाइल-ट्विटर)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 15 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 9:26 AM IST

  • सलमान रुश्दी ने की IOC कार्ड बहाल करने की मांग
  • सरकार के फैसले को चुनौती दे सकते हैं आतिश अली
  • पिता के पाक मूल के होने की जानकारी छुपाने का आरोप

लेखक और पत्रकार आतिश अली तासीर का ओवरसीज सिटीजनशीप ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड रद्द किए जाने के विरोध में 260 हस्तियां उतर आई हैं. इसमें ओरहान पामुक, मार्गरेट एटवुड, सलमान रुश्दी और अमिताव घोष जैसे दिग्गज लेखक शामिल हैं.

इन हस्तियों ने आतिश अली तासीर को टारगेट किए जाने पर चिंता व्यक्त की और भारत सरकार से ओसीआई कार्ड को बहाल करने की मांग की है. पेन अमेरिका की ओर से प्रकाशित पत्र में दिग्गज लेखकों ने दावा किया कि भारत सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कवरेज के लिए आतीश तासीर के खिलाफ 'संभावित जवाबी कार्रवाई' कर रही है.

पत्र में आगे लिखा गया कि विदेशी और भारतीय मूल के लेखकों की देश में आने से रोकना सार्वजनिक बहस को कमजोर करता है. यह भारत की स्वतंत्र और खुली बहस की परंपराओं और विभिन्न विचारों के प्रति सम्मान की भावना के खिलाफ है.

चुनौती दे सकते हैं तासीर

ओरहान पामुक, मार्गरेट एटवुड, सलमान रुश्दी और अमिताव घोष के अलावा ओसीआई कार्ड बहाल करने का अनुरोध करने वाले लेखकों में चिमांडा अडीछी, क्रिस्टीन अमानपोर, माइकल चाबोनस जॉन कोएत्जी, झुंपा लाहिरी, सुकेतु मेहता और मालिन सुरी शामिल हैं.

ब्रिटेन में जन्में लेखक आतिश अली तासीर पर पिता के पाकिस्तानी मूल के होने की जानकारी छुपाने का आरोप है. इस आधार पर भारत सरकार ने पिछले दिनों ओसीआई कार्ड रद्द कर दिया था.

माना जा रहा है कि ओसीआई कार्ड रद्द किए जाने पर आतिश अली तासीर अब भारत सरकार के फैसले को चुनौती दे सकते हैं. उन्होंने पिछले दिनों कहा कि वह सरकार के फैसले को कोर्ट में चुनौती देंगे.

क्यों अयोग्य हुए आतिश तासीर?

पिछले हफ्ते केंद्रीय गृह मंत्रालय के प्रवक्ता की ओर से कहा गया था कि आतिश तासीर भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तान के दिवंगत नेता सलमान तासीर के बेटे हैं. उन्हें ओसीआई कार्ड के लिहाज से अयोग्य कर दिया गया है क्योंकि यह कार्ड ऐसे किसी व्यक्ति को जारी नहीं किया जाता जिसके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तान से हों और उस व्यक्ति ने इस संबंध में जानकारी छुपाया हो.

मैगजीन ने बाद मारी थी पलटी

करीब सात महीने पहले देश में हुए आम चुनावों के दौरान आतीश तासीर ने टाइम पत्रिका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर 'डिवाइडर इन चीफ' शीर्षक से एक लेख लिखा था. हालांकि, चुनाव परिणाम के तत्काल बाद पलटी मारते हुए टाइम मैगजीन ने एक रिपोर्ट जारी की, जिसका शीर्षक था, 'मोदी ने भारत को इतना एकजुट किया, जो कि दशकों में कोई प्रधानमंत्री नहीं कर सका.'

इस लेख से पहले, चुनाव पूर्व टाइम में प्रकाशित हुए आतिश तासीर के लेख को चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी के विरोधियों की ओर से जमकर इस्तेमाल किया गया और मोदी के आलोचकों ने इसे एक वैश्विक मीडिया पावरहाउस द्वारा उन्हें 'विभाजनकारी' के रूप में आरोपित करना करार दिया.

ब्रिटेन में जन्मे आतीश तासीर भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के दिवंगत गवर्नर सलमान तासीर के बेटे हैं, उन्होंने अपनी कवर स्टोरी में लिखा था, 'मोदी का आर्थिक करिश्मा ही साकार होने में असफल नहीं रहा, बल्कि उन्होंने भारत में जहरीले धार्मिक राष्ट्रवाद का माहौल बनाने में भी मदद की है.'

Read more!

RECOMMENDED