मध्य प्रदेश: अब बिटिया के जन्म पर पूरे गांव में होगा जश्न, मां-बच्ची को मिलेगा सम्मान

मध्य प्रदेश में लड़कियों के प्रति समाज में सम्मान पैदा करने और भ्रूण हत्या पर रोक लगाने के मकसद से बेटियों के जन्म पर पंचायत स्तर पर जश्न मनाया जाएगा. इसके लिए 23 हजार पंचायतों में समितियां गठित की जाएंगी.

Symbolic Image
aajtak.in
  • भोपाल,
  • 12 जुलाई 2015,
  • अपडेटेड 5:32 AM IST

मध्य प्रदेश में लड़कियों के प्रति समाज में सम्मान पैदा करने और भ्रूण हत्या पर रोक लगाने के मकसद से बेटियों के जन्म पर पंचायत स्तर पर जश्न मनाया जाएगा. इसके लिए 23 हजार पंचायतों में समितियां गठित की जाएंगी.

राज्य की महिला और बाल विकास मंत्री माया सिंह ने शनिवार को जारी बयान में कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विभागीय समीक्षा में कहा था कि ऐसी पहल करें, जिससे जन-जन तक बेटी के प्रति प्रेम और सम्मान का भाव पैदा हो. उन्होंने कहा कि इसी संदर्भ में यह निर्णय लिया गया है कि गांव-गांव में बेटी के पैदा होने पर खुशी मनाई जाए.

माया सिंह ने कहा कि प्रदेश की हर आंगनवाड़ी में सप्ताह में एक दिन मंगल-दिवस मनाया जाता है. इसी दिन यह कार्यक्रम होगा. आयोजन के लिए सरपंच या पार्षद की अध्यक्षता में एक समिति गठित होगी. समिति की सदस्य सचिव आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, स्वास्थ्य और महिला बाल समिति की अध्यक्ष, आशा कार्यकर्ता, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता और सभी महिला पंच होंगी.

समिति की सदस्य आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता और महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता बालिका के जन्म के पंजीकरण के बाद जन्म-दिन समारोह करेंगी. इस समारोह में बच्ची और जन्म देने वाली मां को सम्मानित किया जाएगा.

गौरतलब है कि राज्य में बालिका जन्म को प्रोत्साहित करने 'लाडली लक्ष्मी योजना' , 'मुख्यमंत्री कन्यादान योजना', 'साइकिल योजना' पहले से संचालित हो रही हैं.

IANS से इनपुट

Read more!

RECOMMENDED