ऑड-ईवन का आज आखिरी दिन, स्कीम को आगे बढ़ाए जाने के आसार

राजधानी दिल्ली में ऑड-ईवन नियम का आज आखिरी दिन है. प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए स्कीम को आगे बढ़ाए जाने के आसार है. इसके संकेत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिए थे. उन्होंने कहा था कि जरूरत पड़ने पर ऑड-ईवन को आगे बढ़ाया जा सकता है.

ऑड-ईवन योजना (Photo- IANS)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 15 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 9:27 AM IST

  • दिल्ली में ऑड-ईवन लागू होने का आज आखिरी दिन
  • प्रदूषण के कारण स्कीम को आगे बढ़ाए जाने के आसार

राजधानी दिल्ली में ऑड-ईवन नियम का आज आखिरी दिन है. प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए स्कीम को आगे बढ़ाए जाने के आसार है. इसके संकेत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिए थे. उन्होंने कहा था कि जरूरत पड़ने पर ऑड-ईवन को आगे बढ़ाया जा सकता है. आज भी राजधानी दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है. द्वारका इलाके में एयर क्वालिटी इंडेक्स 700 के पार दर्ज किया गया है.

ऑड-ईवन की अवधि बढ़ाने पर फैसला आज

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है और एयर इंडेक्स बेहद गंभीर स्थिति में पहुंच गया है. प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली सरकार ने 4 से 15 नवंबर तक ऑड-ईवन योजना लागू करने का फैसला किया था और इसके अनुसार शुक्रवार को यह योजना का आखिरी दिन है. हालांकि बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए इस योजना को आगे बढ़ाया जा सकता है. ऑड-ईवन योजना की समय सीमा को आगे बढ़ाया जाएगा या नहीं, इसे लेकर दिल्ली सरकार आज फैसला ले सकती है. 

दिल्ली की इमेज की चिंता: केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वायु प्रदूषण पर बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा था कि मुझे लोगों की सेहत की चिंता है और देश की राजधानी दिल्ली की जो इमेज बन रही है, उसकी भी चिंता है. अगर दिल्ली में इतना स्मोक होगा, तो क्या इमेज बनेगी.'

उन्होंने कहा, 'हम सब देख रहे हैं कि दिल्ली में प्रदूषण 10 अक्टूबर से पराली जलने की वजह से बढ़ा. पंजाब, हरियाणा में बारिश की वजह से दिल्ली में धुआं कम हो गया था, लेकिन बारिश थमते ही दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया. अभी भी पराली जलाई जा रही है. सुप्रीम कोर्ट के सख्त के आदेश को नहीं माना जा रहा है.'

केजरीवाल ने आगे कहा, 'पिछले कई दिनों मैं कई एक्सपर्ट से मिला. पराली को CNG में कन्वर्ट कर सकते हैं. करनाल में एक प्रोजेक्ट का फाउंडेशन रखा गया है. आखिर क्यों पंजाब और हरियाणा इसे प्रमोट नहीं करती है.'

Read more!

RECOMMENDED