बीएचयू विवादः छात्रों ने बीएचयू की नियुक्ति प्रक्रिया पर उठाया सवाल!

क्या यह संभव है कि किसी विषय में डॉक्टरेट करने वाला छात्र प्रोफेसरशिप के लिए दिए जाने वाले साक्षात्कार में महज ‘जीरो’ नंबर पाए? और क्या यह भी संभव है कि एक छात्र को 10 में से 10 नंबर मिल जाएं. यानी एक तरफ बिल्कुल मूर्ख छात्र तो दूसरी तरफ इतना सवालों के इतने सटीक जवाब देने वाला छात्र की उसके एक नंबर काटने की भी गुंजाइश न रहे?

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे
संध्या द्विवेदी
  • नई दिल्ली,
  • 19 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 5:10 PM IST

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) प्रशासन ‘संविधान और महामना मालवीय जैसे व्यक्ति’ की दुविधा से पार पाया भी नहीं था कि  यहां एक और विवाद ने तूल पकड़ लिया. दरअसल छात्रों का कहना है कि डॉ. फिरोज खान के साथ 8 और छात्र इस पद के लिए साक्षात्कार देने आए थे. लेकिन डॉ. फिरोज खान को जान पहचान का लाभ देकर उन्हें ही योग्य ठहराया गया. दूसरे छात्रों को जहां, 10 में से 0-2 तक नंबर दिए गए वहीं डॉ. फिरोज खान को 10 में से 10 नंबर दिए गए. संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के विभागाध्यक्ष उमाकांत चतुर्वेदी इससे पहल ‘राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान’ के जयपुर कैंपस में थे. यहीं से डॉ.फिरोज खान ने भी संस्कृत की पढ़ाई पूरी की है. डॉ. फिरोज खान उनके बेहद प्रिय शिष्यों में शुमार हैं. नियुक्ति के साक्षात्कार के लिए जो पैनल बुलाया जाता है उस पैनल के लिए विशेषज्ञों के नाम विभागाध्यक्ष को ही तय करने होते हैं.

जाहिर है, संस्कृत विद्या धर्म विभाग संकाय के विभागाध्यक्ष उमाकांत चतुर्वेदी ने ही साक्षात्कार के लिए पैनल को  तय किया होगा. छात्र सवाल उठा रहे हैं कि क्या यह संभव है कि किसी विषय में डॉक्टरेट करने वाला छात्र प्रोफेसरशिप के लिए दिए जाने वाले साक्षात्कार में महज ‘जीरो’ नंबर पाए? और क्या यह भी संभव है कि एक छात्र को 10 में से 10 नंबर मिल जाएं. यानी एक तरफ बिल्कुल मूर्ख छात्र तो दूसरी तरफ इतना सवालों के इतने सटीक जवाब देने वाला छात्र की उसके एक नंबर काटने की भी गुंजाइश न रहे? इस मामले में विभागाध्यक्ष उमाकांत चतुर्वेदी लगातार बोलने से बच रहे हैं. कई बार संपर्क करने पर उन्होंने बैठक में व्यस्तता का हवाला देकर बाद में बात करने की बात कही. उधर बीएचयू प्रशासन ने साफ कर दिया है कि डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति में बिल्कुल पारदर्शिता बरती गई है. उधर ड़ॉ. फिरोज खान ने इस मसले पर सिर्फ इतना कहा कि मेरा एकेडमिक रिकॉर्ड इस बात का सबूत है कि मैं काबिल हूं या नहीं? बाकी यह तय करना विश्वविद्यालय प्रशासन का काम है कि नियुक्ति में कोई धांधली तो नहीं हुई?

कुल मिलाकर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय इन दिनों मौजूदा ही नहीं पूर्व छात्र-छात्राओं के भी गुस्से से उबल रहा है. प्रशासन कानूनी राय पर इस मसले का हल खोजने की कोशिश कर रहा है. लेकिन इन सब सवालों के बीच एक और सवाल उठ खड़ा हुआ है कि क्या विश्वविद्यालय की नियुक्तियों में रिश्वत, भाईचारा और जान पहचान का खेल खुलेआम खेला जा रहा है? इसमें कोई शक नहीं कि डॉ फिरोज खान की नियुक्ति इसलिए नहीं खारिज की जा सकती क्योंकि वे मुस्लिम हैं, लेकिन जांच इसकी भी होनी चाहिए कि कहीं विश्वविद्यालय में काबिलियत का सौदा तो धड़ल्ले से नहीं चल रहा? कुछ छात्र बीएचयू प्रशासन के नियुक्ति पर दिए गए आधिकारिक जवाब से संतुष्ट नहीं हैं. वे आरोप लगा रहे हैं कि इससे पहले भी बीएचयू के शिक्षकों और अधिकारियों पर सवाल उठ चुके हैं. अगस्त, 2014 में कुलपति लाल जी सिंह और प्रो. विनय कुमार को लेकर भी छात्रों एवं पूर्व छात्रों ने जमकर हंगामा काटा था. इन दोनों पर भ्रष्टाचार के भारी आरोप थे. क्योंकि यह बात तो तय है कि न महामना मदन मोहन मालवीय और न ही संविधान यूनिवर्सिटी में पदों की सौदेबाजी की इजाजत देता है.

***

Read more!

RECOMMENDED