ओलावृष्टिः सदमे में बुंदेलखंड के किसान, कई गंवा चुके जान

ओलावृष्टि के बाद अब तक 6 किसान गंवा चुके जान.

किसान की मौत के बाद घर के बाहर बैठीं गमजदा महिलाएं
संध्या द्विवेदी/मंजीत ठाकुर
  • ,
  • 19 फरवरी 2018,
  • अपडेटेड 6:38 PM IST

झांसी. बुन्देलखंड में भारी ओलावृष्टि से तबाह हुईं फसलों को देखकर किसान टूटने लगे हैं. प्रकृति की मार ने किसानों को जो नुक्सान पहुंचाया है उससे अब तक चार किसानों की मौत की खबरें सामने आईं हैं. यहां पांच किसानों ने मेहनत पर पानी फिर जाने से मायूस होकर खुदकुशी कर ली तो एक किसान को बर्बाद फसल देखते ही खेत पर ही दिल का दौरा पड़ गया. बाद में उसकी मौत हो गई.

पूरे बुंदेलखंड में ही प्रकृति ने किसानों को तबाही के मोड़ पर ला खड़ा किया है. जिन खेतों में ओले गिरे थे अब वहां से किसानों की अर्थी उठती दिखाई दे रही है. प्रदेश सरकार ने इस आपदा के बाद काफी तेजी के साथ राहत राशि को बंटवाना शुरू कर दिया, लेकिन जो नुक्सान हुआ उसके सापेक्ष किसान इसे मामूली राहत ही मान रहे हैं.

झांसी की मऊरानीपुर तहसील के गांव लहचूरा में किसान हरनारायण ने पिछले दिनों अपनी चौथी बेटी की शादी की थी. इस शादी के लिए उसने साहूकारों से करीब तीन लाख रुपए का कर्ज ले रखा था. इसके साथ ही एसबीआई से भी उसके ऊपर डेड़ लाख का कर्ज था. 52 वर्षीय हरनारायण ने कर्ज अदा करने के लिए इस बार अपनी 15 वीघा जमीन के साथ 16 वीघा जमीन बटाई पर भी ली थी.

14 फरवरी को हुई भारी ओलावृष्टि ने उसकी फसल को तबाह कर दिया. हरनारायण जब खेत पर पहुंचा तो फसल देखकर उसे वहीं दिल का दौरा पड़ गया. लोग उसे अस्पताल ले गए, लेकिन उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई.

मृतक किसान की पत्नी ऊषा देवी कहती हैं, मेरे पति कर्ज को लेकर पहले ही परेशान थे. मुश्किल से चारों बेटियों के हाथ पीले करने के बाद अभी सोचा ही था कि इस बार अच्छी फसल हो जाए तो लोगों के कर्ज का बोझ भी उतर जाए, लेकिन अचानक हुई ओलावृष्टि ने फसल के साथ मेरी मांग भी उजाड़ दी.

पति की मौत के साथ ही सबकुछ खत्म हो गया. ऊषा अकेली नहीं हैं, जो इस तरह के सदमे को भोग रही हैं. पिछले तीन दिनों में तीन किसान परिवार और भी हैं जो आपदा के बाद मौत के मातम का दर्द झेल रहे हैं.

दूसरी घटना जालौन की है जहां भेड़ी खुर्द गांव के 28 साल के किसान राहुल ने फांसी लगा ली। इसने अपने खेत में गेहूं की बुआई की थी। फसल पकने को तैयार थी कि ओलों ने कहर ढा दिया. इसके बाद राहुल को कोई रास्ता नहीं नजर नहीं आया. उसने अपने घर के कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी.

यही दर्द महोबा जिले के कैथौरा गांव का भी है. यहां 22 साल के युवा किसान मनोज ने जहर खाकर जान दे दी. उसने सरसों और गेहूं की फसल बोई थी जो बर्बाद हो गई. खेती के सिवा उसके पास परिवार चलाने का कोई दूसरा चारा नहीं था.

इसी गम में उसने मौत को गले लगा लिया. ललिपुर जिले के विरधा में भी ऐसा ही हुआ. यहां के तेरा गांव में किसान खिलान कुशवाहा ने जहर खाकर जान दे दी. उसकी फसल खराब हो गई. इससे पहले कि नुक्सान का आंकलन करने सरकार के नुमाइंदे उसके खेत पर सर्वे करने पहुंचते उसने मौत को गले लगा लिया. बुंदेलखंड के अधिकांश इलाकों से ऐसी ही खबरें आ रहीं हैं.

किसान बेबस नजर आ रहा है. सरकार के पास निर्धारित मानकों के दायरे में मुआवजे की मामूली रकम देकर किसानों के आंसू पोंछने के सिवा कोई दूसरा रास्ता भी नहीं है. किसान यूनियन के बुंदेलखंड अध्यक्ष शिवनारायण सिंह परिहार कहते हैं, आपदाओं ने बुंदेलखंड के किसानों को कंगाल बना दिया है.

खेत हैं, लेकिन यहां खेती खत्म हो रही है. चार साल सूखा के बाद इस बार ओलावृष्टि ने तबाह कर दिया. सरकार की मामूली राहत से किसान की जिंदगी नहीं चलेगी. किसानी जिंदा रखना है तो उसे तबाह हुई फसल का पूरा मूल्य देना होगा।

किसानों के खातों में सीधे राहत भेज रही सरकार

प्रकृतिक आपदा के बाद इस बार सरकार ने राहत बांटने में तेजी दिखाई है. प्रशासनिक महकमे ने जैसे ही प्राथमिक सर्वे कर डिमांड भेजी सरकार ने पैसा जारी कर दिया. बांदा और महोबा में सर्वाधिक नुकसान के चलते राहत राशि जारी कर दी गई. बांदा में 20 लाख से अधिक की मुआवजा राशि किसानों के खातों में भेजी जा चुकी है.

महोबा में भी किसानों के खातों में मुआवजा भेजने का कार्य तेजी के साथ शुरू कर दिया गया. झांसी मंडल में भी सर्वे के बाद मुआवजा बांटे जाने का कार्य शुरू कर दिया गया. झांसी की मण्डलायुक्त कुमुदलता श्रीवासतव कहती हैं, ओलावृष्टि के बाद नुक्सान का आंकलन कर राहत धनराशि को किसानों के खातों में पहुंचाने के लिए प्रशासनिक टीमें गठित कर दी गईं हैं.

ललितपुर की तीन तहसीलों में 33 प्रतिशत से अधिक नुक्सान होने पर वहां 33 लाख रुपया राहत के तौर पर किसानों को बांट दी गई है.

झांसी जिले में मऊरानीपुर में 30 से 75 प्रतिशत तक नुक्सान हुआ है और यहां साढ़े सात करोड़ रुपए शासन ने राहत के तौर पर भेजे हैं, जिसमें 20 लाख रुपए का किसान के खातों में भेज दिए गए. जालौन जिले में कम नुक्सान हुआ है, लेकिन यहां ओलावृष्टि के दौरान जिस किसान की बिजली गिरने से मौत हुई थी उसके परिवार में भी 4 लाख की आर्थिक मदद की गई है.

***

Read more!

RECOMMENDED