दूसरा मकान खरीदने पर कितना मिलता है इनकम टैक्स में फायदा?

पहला होम लोन पूरा हो गया है तो दूसरा होम लोन लेने से पहले जानें बारीकियां.

होम लोन
संध्या द्विवेदी/मंजीत ठाकुर
  • ,
  • 18 जनवरी 2019,
  • अपडेटेड 3:25 PM IST

गाजियाबाद के इंदिरापुरम में रह रहे प्रदीप श्रीवास्तव का होम लोन इसी साल खत्म हो गया. लोन खत्म होने की खुशी तो थी ही लेकिन चिंता इस बात की भी थी कि अगले साल से इनकम टैक्स रिटर्न में ब्याज और मूलधन पर होम लोन का जो फायदा मिलता था वह नहीं मिलेगा. प्रदीप की मौजूदा वित्तीय स्थिति दूसरा मकान खरीदने के लिए माकूल लगती है. लेकिन बड़ा सवाल यह है कि क्या दूसरे मकान पर भी पहले मकान की ही तरह इनकम टैक्स का बेनेफिट मिलेगा?

पहले होम लोन पर मिलता है कितना बेनेफिट

इनकम टैक्स बचाने में होम लोन बड़ी भागीदारी निभाता है. किसी भी करदाता को होम लोन के भुगतान पर 2 लाख रुपए तक के ब्याज और 1.5 लाख रुपए तक के मूलधन पर टैक्स बेनेफिट मिलता है. यह 1.5 लाख रुपए की सीमा धारा 80 सी के अंतर्गत मिलती है. यानी होमलोन के बाद किसी करदाता को 80 सी की किसी अन्य मद में टैक्स बचाने के लिए निवेश करने की जरूरत नहीं होती है.

दूसरा घर के होम लोन पर क्या हैं प्रावधान

चार्टर्ड एकाउंटेंट अंकित गुप्ता के मुताबिक दूसरा मकान खरीदने पर टैक्स का बेनेफिट करदाता की स्थिति पर निर्भर करता है कि वह उस मकान में खुद रह रहा है या नहीं. अगर कोई करदाता मकान में खुद रह रहा है तो उसे होम लोन के ब्याज पर अधिकतम 2 लाख रुपए का टैक्स बेनेफिट मिलेगा लेकिन अगर उस मकान में नहीं रह रहा तो होम लोन पर दिया जाने वाले पूरा ब्याज सेक्शन 24(बी) के अंतर्गत कर मुक्त होगा. ब्याज के रूप में अदा की गई राशि पर टैक्स बेनेफिट की कोई सीमा नहीं है.  

यह फायदा यह भी है

अगर किसी व्यक्ति ने मकान ज्वाइंट लोन लेकर खरीद रखा है और मकान के ज्वाइंट ओनर है तो टैक्स बेनेफिट का फायदा दोनों करदाताओं को होगा. उदाहरण से समझिए मान लीजिए होम लोन के मूलधन पर किसी करदाता को 1.5 लाख और ब्याज पर 2 लाख रुपए का बेनेफिट मिलता है और ज्वाइंट बेनेफिट में यह लाभ 7 लाख रुपए हो जाएगा. यानी दोनों ही करदाता समान रूप से मूलधन और ब्याज की अदायगी करके टैक्स बेनेफिट ले सकते हैं

***

Read more!

RECOMMENDED