टिक टॉक की रेटिंग में आई बड़ी गिरावट, जानिए पूरा मामला

असल जिंदगी में जहां पूरा देश कोविड-19 से लड़ रहा है वहीं दूसरी तरफ इस बीच एक डिजिटल वॉर भी छिड़ा हुआ है. इस लड़ाई में एक तरफ हैं टिक-टॉक के करोड़ों यूजर्स और दूसरी तरफ यू-ट्यूब फैन्स हैं. लड़ाई यहां तक पहुंच गई कि इसमें बड़ी बड़ी हस्तियां आमने सामने आ गईं और बात यहां तक पहुंच गई कि टिक टॉक को देश में बैन करने की मांग जोर पकड़ने लगी. इसका नतीजा यह हुआ कि कभी 4.8 रेटिंग वाली मोबाइल एप्लीकेशन इस समय 1.3 पर पहुंच गई है.

फोटो साभार-इंडिया टुडे
शुभम शंखधर
  • ,
  • 23 मई 2020,
  • अपडेटेड 5:25 PM IST

टिक-टॉक और यू-ट्यूब यूजर्स के बीच जारी हैं जंग. एक ही हफ्ते में टिक टॉक की रेटिंग में बड़ी गिरावट देखने को मिली. टिक टॉक की मौजूदा रेटिंग 1.3, जो पहले गूगल प्ले स्टोर पर 4.8 हुआ करती थी.

असल जिंदगी में जहां पूरा देश कोविड-19 से लड़ रहा है वहीं दूसरी तरफ इस बीच एक डिजिटल वॉर भी छिड़ा हुआ है. इस लड़ाई में एक तरफ हैं टिक-टॉक के करोड़ों यूजर्स और दूसरी तरफ यू-ट्यूब फैन्स हैं. लड़ाई यहां तक पहुंच गई कि इसमें बड़ी बड़ी हस्तियां आमने सामने आ गईं और बात यहां तक पहुंच गई कि टिक टॉक को देश में बैन करने की मांग जोर पकड़ने लगी. इसका नतीजा यह हुआ कि कभी 4.8 रेटिंग वाली मोबाइल एप्लीकेशन इस समय 1.3 पर पहुंच गई है.

क्यों गिरी टिक टॉक की रेटिंग?

टिक टॉक की रेटिंग इसलिए गिर रही है क्योंकि लाखों की संख्या में यूजर्स ने इस एप्लीकेशन को पिछले एक सप्ताह में लो रेटिंग (एक से दो रेटिंग) दी हैं. टिक टॉक एक लोकप्रिय मोबाइल एप्लीकेशन हैं, जिसके दुनियाभर में एक अरब से ज्यादा यूजर्स हैं. टिक टॉक की रेटिंग अभी भी लगातार गिरती जा रही है. इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि इसके प्रति भारतीयों में कितनी नाराजगी है.

इस पूरे बवाल की शुरुआत दरअसल यू-ट्यूबर एल्विश यादव के उस वीडियो से होती है जिसमें वे टिक टॉक यूजर्स का मजाक उठाते हुए उन्हें कूड़ा कहा. इसके बाद मामले ने तूल तब पकड़ी जब लोकप्रिय टिक टॉक यूजर आमिर सिद्दकी ने इसका जवाब देते हुए यू-ट्यूब पर निशाना साधा और यू-ट्यूबर्स पर कंटेंट की चोरी का आरोप लगाया. उन्होंने यहां तक कह डाला कि यू-ट्यूबर्स, टिक टोक समुदाय जितने एकजुट नहीं है. इतना ही नहीं उन्होंने जाने माने यू-ट्यूबर कैरी मिनाती को चुनौती दी.

जाहिर है कि यू-ट्यूबर्स को यह वीडियो अच्छा नहीं लगा और मिनाती ने चुनौती स्वीकार करते हुए आठ मई को एक वीडियो अपलोड कर आमिर को करारा जवाब दिया. उन्होंने आमिर भाषा और शब्दावली का भी मजाक उठाया. उन्होंने आमिर पर खुद को पीडित दिखाकर सहानुभूति बटौरने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया. मिनाती की इस वीडियो को जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला. लाखों लोगों ने इसे देखा और लाइक किया. उनके प्रशंसकों का दावा है कि यह वीडियो यू-ट्यूब पर अब तक सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला नॉन म्युजिकल (जिसमें संगीत न हो) वीडियो है.

लेकिन 14 मई को यू-ट्यूब ने इस वीडियो को अपनी नियम शर्तों का उल्लंघन बताते हुए डिलीट कर दिया. हालांकि इसका कारण आमिर के प्रशंसकों की ओर से इस वीडियो को साइबर बुलिंग और उत्पीडन करने वाला बताया गया, जिस वजह से इसे डिलीट कर दिया गया.

वीडियो डिलीट होने से मिनाती के 1.7 करोड़ प्रशंसक नाराज हो गए. आशीष चंचलानी, भुवन बाम और अभिनेता हिमेश कोहली भी मिनाती के समर्थन में आगे आए. मामला यहीं नहीं थमा आमिर सिद्दकी ने एक और वीडियो पोस्ट की और दावा किया उनका वीडियो पूरे यू-ट्यूब समुदाय के खिलाफ नहीं था बल्कि उन लोगों के खिलाफ था जो सोशल मीडिया मंच पर दूसरों को नीचा दिखाते हैं. आमिर ने यह भी कहा कि उन्होंने कभी भी साइबर बुलिंग का समर्थन नहीं किया और मिनाती भी अपने प्रशंसकों को ऐसा न करने की सलाह दें.

बाद में मिनाती ने भी सुलह समझौता करते हुए एक भावुक वीडियो पोस्ट किया. लेकिन मिनाती के प्रशंसक उन्हें रोता हुआ देख नहीं पाए और उन्होंने टिक टॉक से बदला लेने की ठान ली. इसके बाद ट्वीटर पर #bantiktok जैसे हैशटैग ट्रेंड करने लगे. अभिनेता और राजनेता परेश रावल ने भी टिक टॉक को बैन करने की मांग की.

टिकटॉक Vs यू-ट्यूब

यू-ट्यूब

-2 अरब एक्टिव यूजर्स

-अमेरिका में 73% इंटरनेट यूजर्ए यू-ट्यूब पर एक्टिव

-2018 में iOS सबसे ज्यादा डाउनलोड होने वाली मोबाइल एप्लीकेशन

-दिसंबर 2018 तक एन्ड्रॉयड मोबाइल पर कुल 5 अरब बार डाउनलोड की जा चुकी एप्लीकेशन

टिक-टॉक

-दुनिया के 150 बाजारों और 39 भाषाओं में

-पूरी दुनिया में करबी 8 करोड़ एक्टिव यूजर्स

-57% यूजर्स चीन में

-2019 में भारत शीर्ष बाजार

-अमेरिका में कुल इंटरनेट यूजर्स में केवल 9% टिक-टॉक पर

***

Read more!

RECOMMENDED