समलैंगिकों से समाज को प्रॉब्लम नहीं मानतीं मानवी गगरू

धूम मचाओ धूम से करियर की शुरुआत करने वाली मानवी गगरू ने वेब पर भी टीवीएफ ट्रिपलिंग और फोर मोर शॉट्स प्लीज से धमाल किया था. पीके और उजड़ा चमन के बाद अब वह शुभ मंगल ज्यादा सावधान में गॉगल त्रिपाठी के रूप में दर्शकों को गुदगुदाने आ रही हैं

फोटोः नवीन कुमार
नवीन कुमार
  • मुंबई,
  • 12 फरवरी 2020,
  • अपडेटेड 6:12 PM IST

समलैंगिकों के जीवन पर आधारित फिल्म शुभ मंगल ज्यादा सावधान में गॉगल त्रिपाठी का चुलबुला कैरेक्टर करने वाली दिल्ली की मानवी गगरू समलैंगिकों की पैरोकार भी हैं. वो अपनी राय जाहिर करते हुए कहती हैं, 'समलैंगिकों से समाज को कोई प्रॉब्लम नहीं होना चाहिए. क्योंकि, ये एक-दूसरे को प्यार करते हैं. उनसे किसी तीसरे को नुकसान नहीं है. हां, हिंदू-मुस्लिम के बीच शादी होती है तो परिवार और समाज को उस पर आपत्ति होती है. लेकिन प्यार करने वाले ऐसे लोग जो हिंसक नहीं हैं, परिवार या समाज को परेशान नहीं करते हैं तो उससे किसी को प्रॉब्लम नहीं होना चाहिए.' 

मानवी से जब पूछा गया कि समलैंगिकों के व्यवहारिक आचरण को लोग अनैसर्गिक मानते हैं? इस सवाल उनका जवाब है, 'कुछ लोग होमो सेक्स को अनैसर्गिक मानते हैं. यह बिल्कुल सही. क्योंकि, इससे आप बच्चे पैदा नहीं कर सकते हैं. प्रोक्रिएशन नहीं होता है तो इससे लोगों को लगता है कि यह अनैसर्गिक है. लेकिन इस कायनात में यह रहा तो हमेशा से है.' 

मानवी फिल्म में अपने कैरेक्टर से खुश हैं. उनका मानना है कि गॉगल त्रिपाठी ऑडिएंस के दिल में अपनी अलग जगह बनाएगी. बकौल मानवी, 'वैचारिक रूप से मुझमें और गॉगल त्रिपाठी में काफी समानता है. फिल्म में सेंसिबल बात यही कर रही है. फैमिली का यही एक मेंबर है जो आयुष्मान खुराना और जितेंद्र कुमार दोनों को सपोर्ट करती है. जितेंद्र मेरा भाई है. आयुष्मान और जितेंद्र की कहानी है. लेकिन फिल्म में हर कैरेक्टर अपने प्यार के लिए लड़ रहा है.' 

भारत में भी धारा 377 के डिक्रिमिनलाइज होने के बाद समलैंगिकों को कितनी राहत मिलेगी? इस सवाल पर मनोविज्ञान की छात्रा रहीं मानवी अपनी बात कुछ इस तरह से रखती हैं, 'मेरे ख्याल से ये बहुत पहले हो जाना चाहिए था. लेकिन ठीक है. हमारा देश दुनिया का 16 वां देश है जिसने समलैंगिकता को अपराथ की श्रेणी से हटा दिया है. एक भारतीय के रूप में मुझे भी गर्व है कि हमारे देश में यह डिक्रिमिनलाइज हुआ है. आजादी मिली है ऐसे लोगों को. ऐसे लोगों के लिए यह एक प्यार जैसी चीज है.' 

पहले भी समलैंगिकों पर कई फिल्में बनी हैं. लेकिन शुभ मंगल ज्यादा सावधान फिल्म से समलैंगिकों की कितनी मदद मिलेगी? इस सवाल पर मानवी कहती हैं, 'एक सुपरस्टार आयुष्मान खुराना यह फिल्म कर रहा है. इससे तो फर्क पड़ेगा. लेकिन इऩको लेकर हमारी सोच कितनी बदलेगी, मुझे लगता है कि इसमें टाइम लगेगा. हमारे समाज में यह हमेशा देखने को मिलता है कि दूसरे का बेटा है तो लगेगा कि ओके. लेकिन जब अपना बेटा होता है तो लगता है कि ऐसा कैसे हो सकता है. या बेटी है तो कैसे हो सकती है. मैं जानती हूं बहुत सारी फैमिली को जहां ओके है. मेरी दो फ्रैंड हैं जो लेस्बियन हैं. उन्होंने एक बेबी एडॉप्ड किया है. उनकी फैमिली के लिए कुछ नहीं है. उनके लिए ग्रैंड किड्स हैं. 

हर तरह के लोग होते हैं दुनिया में. अभी तक हमारे समाज में जात-पात भी है. मुझे किसी ने पूछा कि आपकी कास्ट क्या है. मैंने कहा कि आज के जमाने में कौन किसी का कास्ट पूछता है. किसी ने पूछा कि गोत्र क्या है. मैंने कहा कि मुझे नहीं मालूम. क्या बकवास चल रहा है. मेरा कैलेंडर था 2019 का. मैं फेंकना नहीं चाहती थी. मैंने अपनी मेड से पूछा कि वो अपने घर ले जाएगी. वह तैयार हो गई. लेकिन उसने कहा कि बाद में ले जाऊंगी. मैंने पूछा क्यों. तो उसने बताया कि महीना चल रहा है. मुझे लगता है कि किन-किन चीजों में उलझे हुए हम. उससे नेचुरल क्या हो सकता है. लेकिन मुझे विश्वास है कि बदलाव आएगा धीरे धीरे.

मानवी ने वेब पर बेहतरीन अभिनय करके खूब वाहवाही लूटी है. पीके में अनुष्का शर्मा की सहकर्मी थी और अभी हाल में उड़ता चमन में भी थीं. उनसे पूछा कि जब लेखक ही फिल्म को डाइरेक्टर करता है ऐसे डाइरेक्टर के साथ काम करने में कितनी सहूलियतें होती हैं? इस पर अपना अनुभव बतां करते हुए कहा, 'सबसे अच्छा होता है जब राइटर ही फिल्म को डाइरेक्टर करे. हितेश केवल्या की राइटिंग के साथ डाइरेक्शन की भी सोच बहुत अच्छी और क्लीयर है. उन्हें पता है कि ये सीन क्यों कर रहा हूं और इस लाइन का क्या मतलब है. कहां ले जाना चाह रहा हूं इस लाइन से स्टोरी को. उन्होंने इससे पहले शुभ मंगल सावधान के लिए राइटिंग की थी. अब उन्होंने शुभ मंगल ज्यादा सावधान में डाइरेक्शन का भी कमाल दिखाया है.' 

इस फिल्म में मानवी ने सीनियर ऐक्टर के साथ काम किया है और कहती हैं कि गजराज राव के साथ पहले ट्रिपलिंग में काम किया हुआ है. नीना मेम के साथ पहली बार काम कर रही हूं. जैसा मैंने सोचा था वैसी ही हैं वो, वेरी स्वीट और फ्रैंडली. 

कश्मीरी पंडित होने के नाते मानवी को कश्मीर पर भी बात करना अच्छा लगता है. वो कहती हैं, 'मैं कभी कश्मीर में रही नहीं. मैं दिल्ली में पैदा हुई और वहीं पली-बढ़ी. मेरा पहला कश्मीर ट्रिप 2015 में था. संयुक्त परिवार होने के कारण कोई न कोई सदस्य कश्मीर की कहानियां सुनाता था. हमारा पैतृक घर श्रीनगर में है जो अब खंडहर में तब्दील हो गया है. मेरे दादा जॉब में थे तो वो पहले ही कश्मीर से दिल्ली आ गए थे. मेरी फैमिली का तब कोई सदस्य नहीं था जब कश्मीरी पंडितों के साथ हादसा हुआ था. एक मेरे मामा हैं जिनको उन हालातों का सामना करना पड़ा था. अब वो जम्मू में रहते हैं. मुझे स्कूल में साथी पूछते थे कि कश्मीरी पंडितों के साथ हुआ क्या था. बाद में मैंने इस बारे में कुछ किताबों के जरिए जानकारी हासिल की.' 

मानवी के शब्दों में, 'जब आर्टिकल 370 हटा था तब मैं शूट पर थी. मुझे रोना आ गया था. जबकि मेरा कोई इमोशनल अटेचमेंट है नहीं. क्योंकि अब इंडियन वहां प्रॉपर्टी ले सकते हैं. मुझे ये था कि मैं अपने पैरेंट्स के लिए प्रॉपर्टी लेना चाहूंगी. जब हम 2015 में गए थे तो वहां लोकल्स बात कर रहे थे. एक लोकल ने कहा था कि कश्मीरी पंडितों के साथ जो हुआ बहुत बुरा हुआ. लेकिन उसने यह भी कहा कि आपलोग सुरक्षित बाहर निकल गए. हम तो फंस गए. उनका सोर्स आफ इनकम टूरिज्म है. कर्फ्यू की वजह से स्कूल-कालेज कभी भी बंद हो जाते हैं. अब 370 के हटने से लोकल्स के लिए उम्मीदें बंधी हैं कि वहां पर इंडस्ट्री आएगी, जॉब मिलेंगे. मगर अभी तो सब कागज पर ही है. पता नहीं क्या होगा.' 

कश्मीर के ताजा हालात से मानवी बहुत खुश नहीं हैं. वो कहती हैं, 'अब हर चीज में हिंदू-मुस्लिम देखते हैं. किसी का नाम भी पूछते हैं तो कहते हैं कि यार ये तो मुस्लिम है. ये तो हिंदू है. ये सब हम कहां बात करते थे पहले. मुझे तो नहीं याद है. मुझे यह सही नहीं लगता है. मुझे हिंदू होने पर गर्व है. लेकिन जो जहर फैलाया जा रहा है वो बहुत खतरनाक है. अपने ही देश में इस तरह का विभाजन दिख रहा है, अलग तरह की भावना पैदा हो रही है जो मेरे हिसाब से सही नहीं है.' 

इसका समाधान क्या है. मानवी के शब्दों में, 'मैंने रूसो के एक आर्टिकल में पढ़ा था कि हर पॉलिटिशियन अपनी राजनीति में धर्म का इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा. मुझे लगता है कि सोसायटी में अभी पूरी तरह से उतना बदलाव नहीं आया है. लेकिन जब यह सुनते हैं कि कैब इस वजह से कैंसिल कर रहे हैं कि उसका ड्राइवर मुस्लिम है. मुझे लगता है कि कौन है यार जो ऐसा करता है. मैंने तो कभी किया नहीं है. मैं कैब लेती हूं तो उस मुस्लिम ड्राइवर से बात करती हूं. वो हैप्पी है. उनको भी पता है कि ये सब पॉलिटिक्स है. वोट बैंक पॉलिटिक्स है. इलेक्शन के चक्कर में हो रहा है.' 

मानवी बताती हैं कि नो वन किल्ड जेसिका फिल्म उनके दिल के करीब है. इस फिल्म में काम करने का अनुभव साझा करते हुए कहती हैं, 'जब इस फिल्म का आफर मेरे पास आया था तब मैं दिल्ली में रह रही थी. मैं छोटी थी. मेरे कजिन कैंडिल मार्च में इंडिया गेट गए थे. जब मैंने यह फिल्म किया तो मुझे बहुत मजा आया. यह मेरी पहली बड़ी फिल्म थी. स्टार्स के साथ काम कर रही थी. रानी मुखर्जी जिसे मैंने देखा है ऐसे, कुछ कुछ होता है और कभी अलविदा न कहना में. और विद्या बालन. पहले सुना था कि सीनियर जूनियर का भेद होता था. लेकिन हम फेमनिज्म की बात करते हैं. वुमेन वुमेन को सपोर्ट करने की बात करती हैं तो अब वो फीलिंग कम हो गई है.'

***

Read more!

RECOMMENDED