महात्मा गांधीः प्रेम का देवदूत

महात्मा गांधी (1869-1948)राष्ट्रपिता

इलेस्ट्रशनः नीलांजन दास
सरोज कुमार
  • ,
  • 19 सितंबर 2017,
  • अपडेटेड 6:23 PM IST

महात्मा गांधी, गौतम बुद्ध के बाद सबसे महान भारतीय थे. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका से लौटने के बाद 1 अगस्त, 1920 को पहला राष्ट्रव्यापी सत्याग्रह छेड़कर आजादी के संघर्ष में क्रांतिकारी बदलाव ला दिया. सत्याग्रह में उन्होंने लाखों अशिक्षित किसानों और कुशाग्र बुद्धिजीवियों, सबको इस बात के लिए प्रेरित किया कि वे उनके इस विश्वास का अनुसरण करें कि भयमुक्त तपस्या की वजह से एक साल बाद देश को ब्रिटिश औपनिवेशिक आतंक से या तो आजादी मिल जाएगी या फिर स्वराज. भले ही यह सब उस तेजी से तो मुमकिन न हुआ हो, लेकिन गांधी ने सत्य और अहिंसा में अपने भरोसे को कभी डिगने नहीं दिया.

उन्हें यकीन था कि यही दोनों ईश्वर और प्रेम हैं जो मिलकर दुनिया को हिला देंगे. लेकिन केवल धोती पहनकर आधा शरीर ढंकने वाली 'महान आत्मा' ने पहले सत्याग्रह के ढाई दशक से कुछ ज्यादा वक्त के बाद 'करेंगे या मरेंगे' के अपने सबसे ताकतवर मंत्र के जरिए आखिरकार दुनिया में तब के सबसे ताकतवर साम्राज्य को दक्षिण एशिया छोडऩे के लिए मजबूर कर दिया.

महात्मा गांधी देश के उन बड़े नेताओं में अकेले थे जिन्होंने देश के विभाजन को मंजूर करने से दृढ़तापूर्वक इनकार कर दिया था. उन्होंने उसे भारत माता के टुकड़े करने के बराबर आंका था. गांधी जानते थे कि पंजाब और बंगाल का जल्दबाजी में इस तरह विभाजन करने से सबसे संपन्न और पवित्र सिखों की धरती और पंजाब के गुरुद्वारों में और दूसरी तरफ श्सोनार बांग्ला्य में खून की नदियां बहने लगेंगी. यह भारत के आधुनिक इतिहास का सबसे भयानक और त्रासद दौर था. वह गृह युद्ध जिसने ब्रिटिश राज के आखिरी वक्त में समूचे उत्तर भारत को अपनी चपेट में ले लिया था.

सिखों की लाशों से लदी खून से सनी ट्रेनें अमृतसर स्टेशन पर पहुंचती थीं तो मुसलमानों की लाशों से लदी ट्रेन लाहौर स्टेशन पर. गांधी विलाप करते थे कि ''क्या आजादी मिलने के बाद हम सब वहशी हो गए हैं? यह कितना शर्मनाक है.'' लेकिन उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी कि यह पागलपन रोका जा सकता है और वे आजादी के शानदार जश्न की पूर्व संध्या पर ही दिल्ली छोड़कर कलकत्ता चले गए. वहां उन्होंने उस सांप्रदायिक उन्माद को काबू में करने की भरसक कोशिश की जिसने लंबे समय तक ब्रिटिश भारत की राजधानी रहे शहर को खौफनाक कब्रिस्तान में तब्दील कर दिया था.

(लेखक यूसीएलए में दक्षिण एशियाई इतिहास के विशिष्ट प्रोफेसर एमेरिटस हैं; वे एनसाइक्लोपीडिया ऑफ इंडिया, गांधीज पैशन ऐंड नेहरूः ए ट्रिस्ट विद डेस्टिनी के संपादक हैं)

Read more!

RECOMMENDED