नई संस्कृति-नए नायकः कॉमेडी का अवधी अंदाज

गांव के लोगों को ही पात्र बनाकर रमेश ने अवधी ग्रामीण परिवेश को फिल्म के माध्यम से लोगों के सामने पेश किया. इन फिल्मों के पात्र निहोरन चाची, लुटावन चाचा, कन्हऊ लाल चाचा, झिनकन, नंगा मिसिर आज पूरे अवधी बेल्ट में लोकप्रिय हो गए हैं.

रमेश दुबे 'रमेशवा'
आशीष मिश्र
  • नई दिल्ली,
  • 04 दिसंबर 2019,
  • अपडेटेड 5:30 PM IST

तकनीकी किसी कलाकार के सपने में कैसे पंख लगा सकती है, इसका उदाहरण गोंडा जिले के कर्नलगंज इलाके के बेहद पिछड़े गांव परसा महेसी में रहने वाले रमेश दुबे में देखा जा सकता है. ग्रामीण अंचलों की बातों को व्यंग्य के जरिए लोगों के बीच पेश करने के लिए रमेश अपना यूट्यूब चैनल शुरू करना चाहते थे. लेकिन गांव का पिछड़ापन आड़े आ रहा था. गांव में बमुश्किल थ्री-जी मोबाइल सिग्नल पकड़ता था जिससे कोई वीडियो यूट्यूब पर पोस्ट करना संभव नहीं था. रमेश बताते हैं, ''पिछले वर्ष अप्रैल में हमारे गांव के पास फोर-जी मोबाइल टावर लगा. फोर-जी मोबाइल सिग्नल मिलने से फिल्म बनाकर सोशल मीडिया पर भेजना और रिसीव करना आसान हो गया है.''

इसके बाद रमेश ने अपनी बड़ी बेटी के नाम पर खुद का उन्नति फिल्म्स हाउस यू-ट्यूब चैनल पंजीकृत कराया. रमेश ने पहला वीडियो भैया लोटत है नाम से 6 जुलाई, 2018 को जारी किया, जिसमें एक सास अपनी बहू के भाई से संवाद करके शादी में दहेज पूरा न दिए जाने की शिकायत करती है. अवधी भाषा के इस वीडियो में सास और बहू के भाई, दोनों रूप में रमेश ने ही अभिनय किया था. भैया लोटत है वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. गांव के लोगों को ही पात्र बनाकर रमेश ने अवधी ग्रामीण परिवेश को फिल्म के माध्यम से लोगों के सामने पेश किया.

इन फिल्मों के पात्र निहोरन चाची, लुटावन चाचा, कन्हऊ लाल चाचा, झिनकन, नंगा मिसिर आज पूरे अवधी बेल्ट में लोकप्रिय हो गए हैं. खास बात यह है कि रमेश की फिल्मों में ज्यादातर दो व्यक्तियों में व्यंग्य से लबरेज अवधी भाषा में संवाद होता है जिसमें समाज में फैली समस्याओं, बुराइयों के निराकरण का संदेश छिपा रहता है. रमेश बताते हैं, ''मैं अपनी फिल्मों में हू-ब-हू ग्रामीण परिवेश को उतारता हूं. मेरा मकसद केवल लोगों को हंसाना भर नहीं है. हंसाने के साथ हम आपको कुछ ऐसी सीख दे दें जिसे आप उम्र भर याद रखें.''

रमेश बेहद गरीब परिवार से हैं. इनके पिता शेष नारायण दुबे लखनऊ के एक मंदिर में पुजारी हैं. रमेश बचपन से ही गांव के बड़े-बुजुर्गों की हू-ब-हू नकल उतार लेते थे. कर्नलगंज के कन्हैयालाल इंटर कॉलेज से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद 2007 में रमेश ने लखनऊ की भारतेंदु नाट्य अकादमी से निर्देशन का पाठ्यक्रम पूरा किया. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से उत्तर प्रदेश के कई शहरों में पोलियो के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए नुक्कड़ नाटक किए.

लखनऊ के यायावर रंगमंडल से जुड़कर कई नाटकों में भी अभिनय किया. रमेश बताते हैं, ''नाटक करने के दौरान मैं महसूस करता था कि अवधी भाषा दूसरी भाषाओं की तुलना में पीछे छूट रही है. मैं अपनी भाषा के लिए कुछ करना चाहता था लेकिन पैसा न होने के कारण चुप बैठ जाता था.'' कुछ पैसा कमाने की हसरत लिए रमेश 2010 में एक ऑर्केस्ट्रा पार्टी में शामिल हो गए.

वे बॉलीवुड कलाकारों की आवाजें निकाल कर मिमिक्री करते थे. रमेश करीब सभी बॉलीवुड कलाकरों की आवाजें निकाल लेते हैं. पिछले साल जुलाई से रमेश पूरी तरह से खुद के यूट्यूब चैनल के प्रति समर्पित हो चुके हैं. पिछले एक वर्ष तीन महीने के दौरान रमेश के यूट्यूब चैनल पर 125 फिल्में जारी हुई हैं. इन सभी फिल्मों ने रमेश को अवधी के सफल कॉमेडियन के तौर पर स्थापित कर दिया है. उनकी लोकप्रियता इसी बात से आंकी जा सकती है कि सवा साल पहले शुरू हुए उनके यूट्यूब चैनल को डेढ़ लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर मिल चुके हैं.

रमेश सेलेब्रिटी बन चुके हैं और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल इलाके में आयोजित होने वाले कॉमेडी शो में अब इनकी सबसे ज्यादा डिमांड रहती है.

संघर्ष

गांव के पिछड़ेपन के कारण यू-ट्यूब पर वीडियो पोस्ट करने में कठिनाई

टर्निंग पॉइंट

जुलाई, 2018 में भैया लोटत है नाम से वीडियो यूट्यूब चैनल पर पोस्ट करना

उपलब्धि

यूट्यूब चैनल पर जारी होने के बाद रमेश की फिल्मों को चार लाख से अधिक लोग नियमित तौर पर देखते हैं

सफलता के सूत्र

मेहनत ही सफलता का मंत्र है

लोकप्रियता के कारक

अवधी भाषा में प्रभावशाली व्यंग्य शैली, फिल्मों में ग्रामीण महिलाओं के किरदार को हू-ब-हू पेश करना

***

Read more!

RECOMMENDED