सामाजिक सरोकारः बूंद-बूंद की अहमियत

पानी की पहले ही कमी और तिस पर उसकी ऐसी बर्बादी से परेशान ऐमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा में पीएचडी की छात्रा विशाखा बघेल ने ऐसा यंत्र ईजाद करने का फैसला लिया जो आरओ से बर्बाद होने वाले पानी को दोबारा हासिल कर सके.

परदे के पीछे-प्रयोगशाला में काम करतीं विशाखा बघेल
aajtak.in
  • ,
  • 18 मार्च 2020,
  • अपडेटेड 2:54 PM IST

शैली आनंद

भारत में करीब 7.6 करोड़ लोगों को सुरक्षित पेयजल नहीं मिल पाता. जिन घरों में नल का पानी सुलभ है, उनमें से भी ज्यादातर पानी को पीने लायक बनाने के लिए रिवर्स ओस्मोसिस (आरओ) प्यूरिफायर का इस्तेमाल किया जाता है—इसमें एक लीटर पेयजल तैयार करने के लिए तीन से चार लीटर पानी बर्बाद होता है.

पानी की पहले ही कमी और तिस पर उसकी ऐसी बर्बादी से परेशान ऐमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा में पीएचडी की छात्रा विशाखा बघेल ने ऐसा यंत्र ईजाद करने का फैसला लिया जो आरओ से बर्बाद होने वाले पानी को दोबारा हासिल कर सके. प्रोफेसर बसंत सिंह सिकरवार के मार्गदर्शन में चल रहे इस प्रोजेक्ट से 2017 में बी.टेक. के दो छात्र कुणाल ब्रेजा और यजदानी अमीन भी जुड़ गए.

कदम दर कदम

केंद्र सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के साइंस ऐंड इंजीनियरिंग रिसर्च बोर्ड ने इसमें धन लगाया. टीम ने सौर ऊर्जा से चलने वाला एक किफायती यंत्र विकसित किया, जो आरओ के बर्बाद पानी को पीने लायक बना देता है. यंत्र बर्बाद पानी को अत्यंत सूक्ष्म कणों में बांट देता है और उसे कंडेंसिंग चैंबर से गुजारकर शुद्ध हो चुका पानी जमा कर लेता है. बघेल बताती हैं, ''आरओ का बर्बाद पानी यंत्र के टैंक में जमा किया जाता है.

उसे सूक्ष्म कणों में बांटा जाता है और पंखे की मदद से कंडेंसिंग चैंबर में खींचा जाता है. कम दबाव में भाप बनाने पर बर्बाद पानी से नम हवा बनती है.'' एक नमूना यंत्र बनाया गया है, जिसका प्रयोगशाला और फील्ड सेटिंग में परीक्षण किया जा चुका है. यंत्र को व्यावसायिक बनाया जा रहा है.

अचूक

इस यंत्र की संघनन सतह पर एक खास जल-विरोधी परत का लेप है, जो जमा नम हवा के बूंदों की शक्ल में संघनन में मदद करती है.

***

Read more!

RECOMMENDED