उत्तराखंडः निर्दलीय सबसे आगे

भाजपा का कमजोर प्रदर्शन राज्य में कांग्रेस के लिए उम्मीद की किरण

अमित साह
अखिलेश पांडे
  • उत्तराखंड,
  • 05 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 6:40 PM IST

लोक सभा चुनाव में उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीटों पर परचम लहराने वाली भाजपा का प्रदर्शन पंचायत चुनावों में अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा. भाजपा की यही असफलता कांग्रेस के लिए राज्य में उम्मीद बन रही है. 12 जिला पंचायतों में से भाजपा किसी भी जिले में दो-तिहाई से अधिक बहुमत नहीं ले पाई. हालांकि उसके लिए संतोष की बात यह रही कि वह पांच जिलों में नंबर एक पर रही.

वहीं, कांग्रेस का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा. निर्दलियों ने सात जिलों में नंबर एक का स्थान हासिल कर दोनों प्रमुख राजनैतिक दलों को आईना दिखा दिया. 12 जिलों में 347 जिला पंचायत सीटों पर हुए चुनाव में से 148 सीटें जीतकर निर्दलीय एवं अन्य उमीदवार सबसे आगे रहे, जबकि इन चुनावों में भाजपा को 122 और कांग्रेस को 77 जिला पंचायत की सीटें मिली हैं. चुनाव नतीजे घोषित होने के बाद अब क्षेत्र पंचायत प्रमुखों व जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव को लेकर सियासी सरगर्मी शुरू हो गई है.

उत्तरकाशी, पौड़ी, रुद्रप्रयाग व अल्मोड़ा जिलों की पंचायतों में भाजपा की राह आसान नहीं है. दूसरी तरफ उधमसिंहनगर जिले में पार्टी की नजर भाजपा से बगावत कर चुनाव जीते चार उमीदवारों पर टिकी है. बचे सात जिलों में वह अपना बोर्ड बनाने की स्थिति में दिख रही है. जबकि प्रतिपक्षी कांग्रेस का दावा है कि वह पौड़ी, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, देहरादून, अल्मोड़ा व पिथौरागढ़ में अच्छी स्थिति में हैं.

अब जिला पंचायत अध्यक्षों व क्षेत्र पंचायत प्रमुखों की कुर्सी पर कब्जे के लिए सियासी दल भाजपा और कांग्रेस लॉबिंग में जुट गए हैं. जोड़-तोड़ से लेकर बागियों को अपने खेमे में लाने की कोशिशें दोनों पार्टियों ने शुरू की हैं. सूत्रों के मुताबिक, सात जिलों में जिपं अध्यक्ष की कुर्सी के लिए भाजपा सुकून की स्थिति में है, जबकि चार में उसे मशक्कत करनी पड़ेगी और एक जिले में बागियों की मदद लेनी पड़ेगी.

भाजपा सूत्रों के अनुसार, पार्टी से बगावत कर चुनाव जीतने वाले 16 उमीदवार हैं. इन पर पार्टी की नजर है और उनसे संपर्क साधा जा रहा है. इसके अलावा जिन प्रत्याशियों को किसी दल का समर्थन नहीं था, उनसे भी संपर्क साधकर अपने पाले में लाने की कोशिश की है.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट कहते हैं पंचायत चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए उत्साहजनक हैं. सभी 12 जिला पंचायतों में भाजपा के बोर्ड बनने जा रहे हैं, जबकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के अनुसार चुनाव में कांग्रेस समर्थित प्रत्याशियों के साथ ही कांग्रेसी विचारधारा से जुड़े निर्दलीय प्रत्याशी भी जीते हैं. ये समीकरण कांग्रेस के पक्ष में हैं. कांग्रेस पंचायत नतीजों को फिलहाल अपने पक्ष में मान कर चल रही है

Read more!

RECOMMENDED