डिजिटल दुनिया से ऊब का नतीजा

यह उनकी जरूरत नहीं बल्कि एक खास तरह की इच्छा है कि डिजिटल के आभासी अनुभवों के स्थान पर चीजों को वास्तविक रूप से छूकर उसका अनुभव किया जाए. एलपी (लांग प्लेइंग) के लिए ऑनलाइन तलाश से पता चलता है कि किस तरह यह उद्योग फल-फूल रहा है.

डिजिटल म्यूजिक प्लेयर कारवां पुराने रेडियो जैसा दिखता है
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 15 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 5:48 PM IST

निखिल रंजन

उसने इरादा कर लिया था कि उसे अपने 16वें जन्मदिन पर क्या चाहिए—एक इन्सटैक्स इंस्टैंट कैमरा जिसके जरिए वह तुरंत के तुरंत फोटो खींचकर उसका प्रिंट निकाल सके. इसलिए मैंने अपनी भतीजी के लिए करीब छह हजार रु. में खरीद लिया. जब मैंने उससे पूछा वह इसे क्यों लेना चाहती है तो उसका जवाब था कि वह इस कैमरे से फोटो खींचकर उसे अपने हाथ में पकड़ सकती है और एलबम में चिपका सकती है.

यह उस लड़की का कहना है जो ऐसे युग में पैदा हुई और बड़ी हुई है जब सब कुछ डिजिटल हो गया है, 11 साल की उम्र में ही उसके पास कैमरा फोन आ गया था फिर भी वह ऐसा कैमरा चाहती थी जिससे वह फोटो खींचकर उसका प्रिंट निकाल सके.

इससे एक साल पहले मैंने सत्तर साल से ऊपर उम्र वाली अपनी चाची को कारवां ब्लूटूथ स्पीकर दिया था जिसमें पहले से हिंदी गाने रिकॉर्ड किए हुए थे. अब जब कभी बात होती है तो वे बताती हैं कि वे गाने उन्हें उनके बचपन की याद दिलाते हैं. यहां एक बार फिर उपकरण के आकार का मामला है—कारवां का आकार '70 के दशक के ट्रांजिस्टर जैसा दिखता है जिसमें गोलाकार डायल दिया गया है. आजकल इसकी खूब बिक्री हो रही है जिसके चलते इसकी पैरेंट कंपनी सारेगामा की चांदी हो गई है.

अब एक तरह का पैटर्न निकल कर आ रहा है—सारी चीजों का भौतिक रूप. आज जब सब कुछ टेलीफोन पर संभव हो सकता है—खाने का ऑर्डर देने से लेकर फिल्म देखने और गर्लफ्रेंड खोजने तक—तो लोग अचानक वास्तविक चीजों को पाने और छूकर उसका अनुभव लेने की चाहत करने लगे हैं. मजे की बात है कि लोग जब भौतिक या एनालॉग उत्पादों पर पैसा खर्च करने की इच्छा करने लगे हैं तो उन्हें अच्छे 'लग्जरी' उत्पाद पर पैसा खर्च करने में कोई हिचक नहीं हो रही है.

यह उनकी जरूरत नहीं बल्कि एक खास तरह की इच्छा है कि डिजिटल के आभासी अनुभवों के स्थान पर चीजों को वास्तविक रूप से छूकर उसका अनुभव किया जाए. एलपी (लांग प्लेइंग) के लिए ऑनलाइन तलाश से पता चलता है कि किस तरह यह उद्योग फल-फूल रहा है. एक एलपी रिकॉर्ड की कीमत 500 रु. से लेकर 3,000 रु. तक हो सकती है और अगर आप महंगे किस्म का टर्नटेबल खरीदना चाहते हैं तो इसकी कीमत कई लाख रु. तक हो सकती है. रिकॉर्डों का अच्छा कलेक्शन रखने के लिए लाखों रु. खर्च करना सचमुच एक नया बदलाव है. अब जानने की कोशिश करते हैं कि इस बदलाव का कारण क्या है.

अब जब कभी आप किसी ऑफिस में जाएं तो ध्यान दें कि लोगों की डेस्क पर क्या रखा हुआ है. जाहिर है आपको हर जगह लैपटॉप नजर आएंगे लेकिन उसके साथ ही कागज का नोटबुक भी दिखाई देगा. चाहे पहली बार नौकरी करने वाला युवा हो या कोई अनुभवी कॉर्पोरेट सीनियर, उनके पास कोई न कोई नोटबुक होगा. दुनिया जब डिजिटल होती जा रही है तो बहुत से क्षेत्रों में कागज का इस्तेमाल दिनोदिन सिकुड़ता जा रहा है. लेकिन इसका आकर्षण दूसरी तरह से बढऩे लगा है क्योंकि यह डिजिटल जिंदगी पर हमारी निर्भरता का एक भौतिक विकल्प है.

डेविड सैक्स अपनी पुस्तक रिवेंज ऑफ एनालॉग में कहते हैं, ''जब मुक्त होकर विचारों को अभिव्यक्त करना हो तो मोबाइल या कीबोर्ड के मुकाबले कलम कहीं ज्यादा असरदार साबित होती है. इस बात को साबित करने के लिए नोटबुक के मोलस्काइन जैसे नामी ब्रांड की बढ़ती मांग का उदाहरण काफी है. यह कमाल की बात है कि डिजिटल की प्रतिस्पर्धा के जमाने में मोलस्काइन तेजी से ऊपर बढ़ रहा है. भारत में मोलस्काइन नोटबुक की बिक्री चेतन भगत के सबसे ज्यादा बिकने वाले उपन्यास से भी ज्यादा हो गई है.

अभी और भी सबूत की जरूरत है तो 'बुलेट जर्नलिंग' ऑनलाइन पर नजर डालें. आप पाएंगे कि इंस्टाग्राम पर 'बुलेटजर्नल' या 'बुजो' का इस्तेमाल 70 लाख से ज्यादा बार किया जा चुका है. बुलेट जर्नलिंग एक जर्नल का हिसाब-किताब रखने की एक विधि है जिसे करीब दो साल पहले राइडर कैरोल ने विकसित किया था. यह किसी के जीवन को सुनियोजित करने की ऐसी विधि है जो फोन से मुक्त रखती है और आपका ध्यान कहीं और नहीं बंटता है. बुलेट जर्नलिंग की बदौलत क्विकराइट जैसे कई नोटबुक ब्रांडों की बिक्री बढ़ गई है.

मुंबई एयरपोर्ट पर 'वी ऐट विलियम पेन' ने 'राइट ए लेटर, से इट बेटर' नाम से एक ऐक्टिवटी आयोजित की थी जिसमें हम जाने वाले यात्रियों से अनुरोध करते थे कि वे अपने प्रियजनों के लिए अपने हाथ से कोई पत्र लिखें. तीन दिनों में ही 100 से ज्यादा लोगों ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. यह लोगों को इतना पसंद आया कि उन लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी कृतज्ञता जाहिर की. दो यात्रियों ने तो इस आयोजन के लिए निजी तौर पर मुझे धन्यवाद दिया. लोगों को एहसास हो रहा है कि स्क्रीन पर समय बिताने की लत किस तरह उनके रिश्तों और जिंदगी को प्रभावित कर रही है. इस जागरूकता और डिजिटल के जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल के कारण ही लोग अब गैर-डिजिटल चीजों की तरफ मुडऩे लगे हैं और इस में पैसा ज्यादा मायने नहीं रखता है.

निखिल रंजन, मैनेजिंग डायरेक्टर,  विलियम पेन

***

Read more!

RECOMMENDED