राजस्‍थान में कांग्रेस के भरोसेमंद पायलट

डॉ. चंद्रभान की जगह पायलट राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष हो सकते हैं. जयपुर के कार्यक्रम में सोनिया और मनमोहन मौजूद थे. इसमें डॉ. चंद्रभान की जगह सचिन पायलट को धन्यवाद ज्ञापन का मौका मिला.

सचिन पायलट
रोहित परिहार
  • नई दिल्‍ली,
  • 03 नवंबर 2012,
  • अपडेटेड 8:33 PM IST

राजस्थान विधानसभा के दिसंबर, 2013 में होने जा रहे चुनाव के मद्देनजर सचिन पायलट को जाट नेता डॉ. चंद्रभान की जगह राजस्थान कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जा सकता है. अगस्त और अक्तूबर में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की राजस्थान यात्राओं से साफ संकेत मिले हैं कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेअसर तंत्र से पार्टी की छवि को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए कांग्रेस जाट समुदाय से अपनी दूरी बनाएगी और सूचना प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री सचिन पायलट को इस काम के लिए बड़ी भूमिका दी जाएगी. माना जा रहा है कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव खत्म हो जाने के बाद यह बदलाव आएगा क्योंकि पार्टी उसके बाद ही राजस्थान पर अपना ध्यान केंद्रित कर पाएगी.

गौरतलब है कि बीते 20 अक्तूबर को सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने जयपुर के करीब दूदू में आधार पहचान पत्र योजना की दूसरी वर्षगांठ पर रैली की थी.

वक्ताओं ने इस रैली में कोई राजनैतिक बयान नहीं दिया जिससे राज्य सरकार को बड़ी हताशा हुई कि जयपुर में चार घंटे रुकने के बावजूद आलाकमान ने सूबे के लिए कोई नई पेशकश नहीं की और मीडिया के साथ भी कोई संवाद नहीं किया. कुल मिलाकर यह आयोजन नीरस रहा. इस पर कांग्रेस ने कहा कि चूंकि यह केंद्र सरकार का कार्यक्रम था और आधार पर केंद्रित था, लिहाजा इसमें और कोई राजनैतिक संकेत खोजने की जरूरत नहीं है.

हालांकि जिस तरीके से यह आयोजन हुआ, उससे यह बहस शुरू हो गई है. मंच पर जाट मंत्री महादेव खंडेला के अलावा राजस्थान से आने वाले सभी केंद्रीय मंत्री मौजूद थे. चंद्रभान को वहां नहीं बैठने दिया गया, न ही उन्हें कोई सक्रिय जिम्मेदारी दी गई थी. दूसरी ओर पायलट को धन्यवाद ज्ञापन करने को कहा गया जो कि पहले सचिव स्तर के एक अधिकारी द्वारा पढ़ा जाना तय था.

संयोग से पायलट दूदू से ही आते हैं जो उनके संसदीय क्षेत्र अजमेर में पड़ता है, इसलिए उन्हें धन्यवाद ज्ञापन करने दिया गया जबकि दूसरे बड़े नेता ऐसा करने से हिचकिचाते रहे. पायलट के धन्यवाद ज्ञापन ने यह भी साफ कर दिया कि आयोजन सिर्फ आधार योजना पर केंद्रित नहीं था, जैसा कि पार्टी लगातार कह रही है.

इससे पहले सोनिया गांधी जब बाड़मेर आई थीं तब भी उन्होंने पायलट को सी.पी. जोशी जैसे अन्य केंद्रीय मंत्रियों के बराबर अहमियत दी थी जबकि चंद्रभान को उनके अपने ह्नेत्र में बोलने तक का मौका नहीं मिला. वहां गहलोत के पसंदीदा स्थानीय विधायक मेवाराम जैन ने धन्यवाद ज्ञापन किया था जबकि जाट सांसद हरीश चौधरी को यह मौका नहीं दिया गया. जयपुर में जब सोनिया गांधी बाढ़ पीडि़तों से मिलने पहुंचीं, तब भी चंद्रभान को दूर ही रखा गया.

बाड़मेर और जयपुर दौरे पर सोनिया द्वारा चंद्रभान की उपेक्षा का चंद्रभान पर इतना असर हुआ कि वे भागे-भागे आलाकमान से मिलने दिल्ली पहुंच गए. जयपुर लौटते वक्त उन्होंने कहा था कि उन्हें ऐसे कोई संकेत नहीं मिले हैं. चंद्रभान ने पार्टी को मजबूत करने के लिए राज्य भर के दौरे और कार्यशालाओं की एक रणनीति बनाई थी, लेकिन पार्टी ने उसे हरी झंडी नहीं दी.

पिछले साल जब वे पार्टी अध्यक्ष बने थे, तो लगातार दो चुनाव हारने के बावजूद उन्हें जाट होने के नाते कारगर माना जा रहा था. वे लगातार कांग्रेस के दोबारा जीतने की संभावनाओं को भी सपाट तरीके से खारिज करते रहे हैं, बावजूद इसके हर राजनैतिक नियुक्ति में गहलोत को खुली छूट देने के कारण उनकी छवि गहलोत के आदमी की बन गई है. गहलोत की हालत यह है कि इस कार्यकाल में उन्होंने पार्टी की विश्वसनीयता की कीमत पर अपने लोगों के बीच अपनी व्यक्तिगत विश्वसनीयता बनाई है और सार्वजनिक जीवन के हर क्षेत्र में अपनी क्षमता व पार्टी हित को दरकिनार करते हुए अपने वफादारों को मलाई बांटी है.

आलाकमान द्वारा पायलट को चुना जाना गहलोत के लिए ठीक हो सकता है क्योंकि इससे उनके प्रतिद्वंद्वी सी.पी. जोशी कमजोर हो सकते हैं. हालांकि पायलट की राह में भी वे कांटे जरूर बोएंगे. दूसरी ओर चंद्रभान को हटा कर एक गैर-जाट को प्रदेश की कमान सौंपते ही जाट समुदाय कांग्रेस के खिलाफ  जा सकता है जिससे आगामी चुनावों में कांग्रेस को नुकसान हो सकता है. कांग्रेस का राजस्थान में भविष्य संकटग्रस्त होने जा रहा है जो कि गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनावों के ठीक बाद वहां होने वाले संगठनात्मक बदलावों की आहट से साफ  समझ में आ रहा है.

Read more!

RECOMMENDED