संगीतः आंगन में अंतरंग धुन

अपने घर के परिवेश में लगातार बैठकें आयोजित करके संगीत के संरक्षकों ने दिखा दिया है कि जहां कला है वहीं घर.

संगीत सिविल लाइंस बैठक में गाते उल्हास कशालकर (ऊपर); और वीएसके बैठक
aajtak.in
  • ,
  • 27 जनवरी 2020,
  • अपडेटेड 6:08 PM IST

श्रीवत्स नेवतिया

विनोद कपूर ने 1964 में जब गिरिजा देवी को बरेली के अपने घर पर गाने के लिए न्यौता दिया, तब संगीत में उनकी मुश्किल से ही कोई दिलचस्पी थी. उस वक्त गिरिजा देवी भी उतना बड़ा नाम नहीं थीं. कपूर कहते हैं, ''वे कोई बेगम अख्तर नहीं थीं.'' अलबत्ता तड़के चार बजे जब गायिका ने कपूर से पूछा कि और गाएं? तब उनके दिमाग के तार झनझनाए. कपूर और उनके मेहमान आठेक घंटे पालथी मारे बैठे संगीत में खोए रहे, जिसे वे समझने से ज्यादा महसूस कर रहे थे.

इस तरह 'शास्त्रीय संगीत के दरवाजे खुल जाने के साथ' कपूर ने कलाकारों को दिल्ली में पंचशील के अपने घर में, इंडिया हैबिटैट सेंटर के बेसमेंट में और आखिरकार अपने गुडग़ांव के फार्म में आने का न्यौता दिया और अनौपचारिक हिंदुस्तानी बैठक को रवायत में बदल दिया. उनके शब्दों में, ''अच्छा लगता है जब आपको जूते उतारकर फर्श पर बैठना पड़े. 1998 में जब मैंने इन अनौपचारिक जमावड़ों को वीएसके बैठक नाम दिया, तब हमने एक तरह से एक संस्था ही शुरू कर दी. पिछले 22 साल में हमारी 150 के करीब बैठकों में 120 से ज्यादा कलाकारों ने संगीत पेश किया है, जिनमें ज्यादातर नए कलाकार रहे हैं.''

हाल ही कोलकाता में स्किनी मो क्लब का उद्घाटन करके जैज को नई ऊर्जा और प्रोत्साहन देने वाले मुनीर मोहंती अपने घर पर बैठकों का आयोजन करके हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के लिए भी ऐसा ही कुछ करते हैं. वे अमूमन बीसेक की वय वाले उदीयमान कलाकारों को बुलाते हैं. मोहंती कहते हैं, ''डॉवर लेन और सीरी फोर्ट में आप बड़े नामों को पहले से ही सुन रहे हैं. ये लड़के सर्किट में नहीं है. मैं उनसे केवल यही कहता हूं कि न कोई नियम हैं, न कोई समय सीमा. बस अपना संगीत पेश करो.''

कपूर (85) को लगता है कि इस आजादी से कलाकार के प्रदर्शन में फौरन निखार आ जाता है. ''उन्हें श्रोताओं की ऊर्जा मिलती है और वे भी प्रतिक्रिया करते हैं. कंसर्ट हॉल में आप अंधेरे में उन श्रोताओं के सामने गा रहे होते हैं, जिनसे आपका वैसा तादात्म्य नहीं होता. वहां तैयारी होती है, तमीज होती है, लेकिन कोई तफरीह नहीं होती. ड्रामा, गति और प्रदर्शन के लिए सुरीलेपन की बलि चढ़ा दी जाती है. वह संगीत आपके मन को झकझोर नहीं सकता.''

दो हजार के दशक के शुरू में मुंबई में रहने वाले हिंदुस्तानी गायक आनंद ठाकोर ने बैठक के स्वरूप को लोकप्रिय बनाने की मंशा से तीन दूसरे संगीतकारों के साथ मिलकर क्षितिज नाम का ग्रुप बनाया. वे कहते हैं, ''पश्चिमी क्लासिक ऑर्केस्ट्रा के बारे में सोचिए. वह 5,000 लोगों के सामने बज सकता है. वह सोसाइटी के लिए बना है. सितार केवल 40-50 लोग सुन सकते हैं. हमारा संगीत कहीं ज्यादा भीतर की तरफ झांकने वाला है. माइक्रोफोन और ऑडिटोरियम के आविष्कार के साथ यह निजी कनेक्ट ही कहीं गुम हो गया है.'' ठाकोर को यह भी लगता है कि फर्श पर बैठने से कलाकार और श्रोता को न केवल ''मिट्टी के साथ रिश्ता कायम करने'' में मदद मिलती है, बल्कि ''घर कोई बनावटी जगहें नहीं हैं. वे आपको ऊष्मा से भर देती हैं.''

दिल्ली में 2017 से सिविल लाइंस बैठकें आयोजित करने वाले आदित्य बहादुर (36) खुश हैं कि उन्हें और उनके परिवार को ''हमारे थोड़े टूटे-फूटे मगर खूबसूरत 110 साल पुराने घर का शानदार बैकड्रॉप विरासत में मिला है. यह भी माहौल में इजाफा करता है.''

बहादुर के घर पर वेंकटेश कुमार, उल्हास कशालकर, राजन-साजन मिश्र जैसे दिग्गज गा चुके हैं. कौशिकी चक्रवर्ती यहां मार्च में अपनी कला का प्रदर्शन करेंगी. इसके न्यौते के लिए सब लालायित रहते हैं. बहादुर कहते हैं, ''हम 120 लोगों को न्यौता भेजते हैं. हम ऐसे लोगों पर निगाह रखते हैं जो देर से आते हैं या जिनकी दिलचस्पी नहीं होती. उनके नाम अगली बैठक के न्यौते से हटा दिए जाते हैं.''

भरत लाल सेठ भी 36 बरस के हैं और छह साल से मंसूरी बैठक करते आ रहे हैं. अक्तूबर और अप्रैल के महीनों के बीच वे वसंत विहार का अपना घर ऐसे कव्वालों, शास्त्रीय और लोक संगीतकारों के लिए खोल देते हैं, जिन्होंने अभी शहर के कंसर्ट हॉल नहीं भरे हैं. सेठ कहते हैं, ''मकसद सुनने की संस्कृति को फिर से स्थापित करना और अल्पज्ञात कलाकारों के लिए धन जुटाना है. लिहाजा हरेक मेहमान पैसा देता है.'' सेठ की मेलिंग लिस्ट में 400 से ज्यादा लोगों के नाम हैं.

कपूर, मोहंती और बहादुर की तरह सेठ भी आत्मीयता और अंतरंगता पर जोर देते हैं, जो बैठक में ही मुमकिन है, ''आप न सिर्फ कलाकार के आमने-सामने होते हैं, बल्कि टेक्नोलॉजी के बगैर उनके संगीत को अनुभव करते हैं. कोई तोड़-मरोड़, प्रतिध्वनि या गूंज नहीं होती. बैठक के संगीत को महसूस किया जा सकता है, समझाया नहीं जा सकता.''

***

Read more!

RECOMMENDED