वार्षिक विशेषांक: ऐतिहासक आनंद स्थल है बिहार

महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा सत्य के मेरे प्रयोग में बिहारियों को यूं परिभाषित किया: ''विनम्र, सरल और अगाध श्रद्धा वाले." वे बिहार को 'मेरे सपनों की धरती' कहते थे.

विजय कुमार चौधरी
  • ,
  • 20 नवंबर 2015,
  • अपडेटेड 5:42 PM IST

आखिर खांटी बिहार है क्या? भौगोलिक रूप से यह गंगा के मध्य मैदान के बड़े हिस्से में फैली सपाट और समतल भूमि है. हालांकि इसमें भौगोलिक विविधता भरी पड़ी है. उत्तर का मैदान प्रचुर मात्रा में झीलों और पोखरों से भरा हरा-भरा इलाका है तो दक्षिण के मैदान में बीच-बीच में पहाडिय़ां हैं. बड़ी नदियां गंगा और कोसी हिमालय से दक्षिण की ओर बहती हैं तो अमरकंटक पहाडिय़ों से सोन नदी उत्तर की ओर बहती है. तीनों धरती को उपजाऊ बनाने का काम करती हैं. ये बिहार की भौगोलिक पहचान तो हैं ही, बिहार की संस्कृति का भी अमिट हिस्सा हैं.इसी तरह बिहार की खांटी पहचान क्या है? ऐतिहासिक रूप से इस क्षेत्र का चरित्र महानगर की तरह उदार और व्यापक रहा है. भारत में राज और साम्राज्य की स्थापना का प्रारंभ भी छठवीं शताब्दी में मगध जनपद और उसके तीन सौ साल बाद मौर्य साम्राज्य से जोड़ा जा सकता है. प्रारंभिक ऐतिहासिक बिहार महान बौद्धिक आंदोलनों का भी जनक रहा है. यहां बौद्ध और जैन जैसे विविध धर्मों का सूत्रपात हुआ जबकि बाकी समूचा आर्यावर्त वैदिक रूढि़वाद में फंसा हुआ था. विविधता और विरोध बिहार के चरित्र की खासियत लगते हैं. सो, आश्चर्य नहीं कि हाल के दौर में 1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम से लेकर चंपारण सत्याग्रह तक बिहार औपनिवेशिक राज के विरोध का हरावल दस्ता रहा है. आजाद भारत में बिहार इमरजेंसी के खिलाफ आंदोलन का भी अगुआ बना.बिहार का शाब्दिक अर्थ भी उसके चरित्र से कुछ अलग नहीं है. यह 'विहार' शब्द का अपभ्रंश है जिसका मतलब बौद्ध मठ हुआ करता है. यहां बौद्ध धर्म की ऐसी मजबूत पकड़ थी कि पूरे क्षेत्र को ही बिहार कहा जाने लगा. लेकिन 'विहार' शब्द बौद्ध युग के पहले का है. महाभारत में विहार का अर्थ आनंद स्थल, मनोरंजन स्थल से है. प्राचीन भारत में धीरे-धीरे यह शब्द दार्शनिक अर्थों में इस्तेमाल किया जाने लगा जिसका अर्थ जीवन को पूरी संपूर्णता, गहराई में जीने से लिया जाने लगा. हमें 'बिहार' शब्द का पहली बार जिक्र 13वीं शताब्दी में मिनहाज अल सिराज जुजजानी की लिखी तबाकत-ए-नसीरी में मिलता है. लेकिन तब यह नाम दक्षिण बिहार के लिए प्रचलित था.दरअसल, उत्तरी बिहार में बौद्ध धर्म की मौजूदगी दक्षिणी हिस्से के मुकाबले कमजोर थी. हालांकि मुहम्मद बिन तुगलक (1325-51) के दौर में उत्तरी और दक्षिणी हिस्से, दोनों को एक ही नाम—बिहार से जाना जाने लगा था. तब वह तुगलक साम्राज्य का एक प्रांत हुआ करता था.हाल के दौर में हालांकि बिहार की पहचान बाकी भारत में उसके गौरवशाली अतीत के लिए नहीं रह गई. बिहार के बारे में एक नकारात्मक धारणा बन गई. वह पिछड़ेपन और ठहराव का प्रतीक बन गया. बॉलीवुड की फिल्मों से लेकर टीवी धारावाहिकों जैसे लोकप्रिय माध्यमों में बिहार की छवि पिछड़ेपन और भदेसपन के लिए पेश की जाती है. आश्चर्य है कि बौद्धिक वर्ग में भी बिहार की वही छवि बनी हुई है. वे उसके इन हालात की दो अहम वजहों को भुला देते हैं. एक, औपनिवेशक राज में भू-राजनैतिक स्थितियां ऐसे बनने लगीं कि कुछ खास इलाकों की परंपरागत अर्थव्यवस्था को सुनियोजित तरीके से चौपट कर दिया गया.आधुनिक इतिहासकार यह बताएंगे कि बिहार को 1857 के विद्रोह में अगुआई करने की कितनी कीमत अदा करनी पड़ी. आजादी के बाद के दौर में भी केंद्र ने संसाधनों के आवंटन तथा बुनियादी संरचना विकास के मामले में बिहार की उपेक्षा की और उसके विशाल खनिज संसाधनों (2000 के पहले) के मुनाफे में हिस्सेदारी देने में कोताही बरती. कई बार तो यह अंदेशा होने लगता है कि बिहार के पिछड़ेपन की कीमत पर ही अग्रणी राज्यों का विकास हुआ है.दूसरे, बिहार को नीचा दिखाने में बाकी भारत यह भूल जाता है कि उनके लिए बिहार जैसा है, ब्रिटेन या ऑस्ट्रेलिया की नजर में भारत की वही स्थिति है. ब्रिटेन या ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों के साथ वही व्यवहार होता है, जैसा मुंबई या दिल्ली में बिहारियों के साथ होता है. हालांकि हाल के वर्षों में बिहार में एक नया अध्याय खुला है और अब बिहार में नई जागृति आ रही है. अगर बिहार पिछड़ता रहा तो भारत भी विकास नहीं कर सकता.अब फिर उस मूल सवाल पर आइए कि बिहार का खांटी चरित्र या उसकी खासियत क्या है? इस विषय में महात्मा गांधी के उद्धरण से भला और बेहतर कुछ कहना क्या हो सकता है. गांधी ने अपनी आत्मकथा सत्य के मेरे प्रयोग में सभी बिहारियों के चरित्र का कुछ ऐसे वर्णन किया है, ''विनम्र,  सरल, भले और अगाध श्रद्धा वाले." वे बिहार को अक्सर ''सुंदर और पवित्र स्थान" या ''मेरे सपनों की धरती" कहा करते थे.कई बार बिहार के लोगों की सादगी, दो टूक बोलने और गजब के हास्य भाव को कोई कोई उनका अक्खड़पन मान बैठता है. आशा है, नवजागृत बिहार अपनी हाल के वर्षों में बनी नकारात्मक छवि को मिटा सकेगा और एक बार फिर अपने मूल अर्थ की तरह 'आनंद भूमि' बन जाएगा.(लेखक के.पी. जायसवाल शोध संस्थान के निदेशक हैं)

Read more!

RECOMMENDED