'' हमने गाय-गोबर से आर्थिक मजबूती की पहल की’’

छत्तीसगढ़ के कृषि एवं पशुपालन मंत्री रविंद्र चौबे से इंडिया टुडे के असिस्टेंट एडिटर सुजीत ठाकुर ने बातचीत की. पेश हैं मुख्य अंश:

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (दाएं) के साथ कृषि एवं पशुपान मंत्री रविंद्र चौबे (एकदम बाएं)
सुजीत ठाकुर
  • रायपुर,
  • 01 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 1:34 PM IST

● आप राजीव गांधी किसान न्याय योजना की बात करते-करते गोधन न्याय योजना पर पहुंच गए?

ऐसी बात नहीं है. राजीव गांधी किसान न्याय योजना जारी है. इसके तहत 19 लाख किसानों को 5,750 करोड़ रुपए दिए जाएंगे. योजना शुरू होते ही पहली किस्त के रूप में 1,500 करोड़ दिए गए. आगामी 20 अगस्त को दूसरा किस्त भी जारी होगा. गोधन योजना क्रांतिकारी कदम साबित होगा क्योंकि गरीबों, चरवाहों, पशुपालकों के साथ ही समाज के दूसरे तबके को भी इसका लाभ होगा.

● लेकिन गाय-गोबर को लेकर तो आपकी पार्टी भाजपा-आरएसएस की आलोचना करती रही है?

गाय-गोबर पर राजनीति अलग बात है. भाजपा के लिए यह सियासी मुद्दा है. पर हमने गाय-गोबर को सियासी मुद्दा नहीं बनाया है बल्कि इसके जरिए लोगों को आर्थिक रूप से मजबूत करने की पहल की है. आपको हैरानी होगी कि आरएसएस के लोगों ने भी छत्तीसगढ़ सरकार की इस योजना की तारीफ की है.

● राजीव गांधी किसान न्याय योजना क्या सफल नहीं रही?

राजीव गांधी किसान न्याय योजना काफी सफल है. इसका पहला किस्त डायरेक्ट कैश ट्रांसफर से पहुंच चुका है. एक बड़ी दिक्कत जो केंद्र सरकार की नीतियों की वजह से है कि हम किसानों को न्यूनतम मूल्य से ज्यादा पैसे न तो प्रोत्साहन से दे सकते हैं न ही बोनस से. ऐसा करते हैं तो एफसीआइ हमसे अनाज नहीं लेगी. ऐसी कठिन स्थिति में हम किसानों को प्रति एकड़ 10,000 रु. देते हैं.

● गोधन न्याय योजना से राज्य कितने लोगों को लाभ होगा ?

यह योजना सीधे तौर पर उन लोगों को आर्थिक मजबूती देगी जो पशु पालते हैं. लेकिन उन लोगों को भी लाभ मिलेगा जो सीधे पशुपालन में नहीं है.

● सिर्फ इसी योजना से किसानों और गरीबों की आमदनी बढ़ेगी?

मैंने ऐसा नहीं कहा. इसके अलावा भी सरकार कई पहल कर रही है जिससे लोगों की आर्थिक स्थिति सुधरेगी. हम खेती को ज्यादा लाभकारी बनाने में लगे हैं.

Read more!

RECOMMENDED