Movie Review: 'डर्टी पॉलिटिक्स' में सेक्स स्कैम और राजनीति

ऐसा अक्सर होता है जब एक ही फिल्म में कई बड़े बड़े एक्टर्स दिखें तो या तो फिल्म बहुत अच्छी होती है या फिर बिखर सी जाती है. अब कैसी है डर्टी पॉलिटिक्स, आइये बयान करते हैं.

फिल्म 'डर्टी पॉलिटिक्स' का पोस्टर
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 06 मार्च 2015,
  • अपडेटेड 10:45 AM IST

फिल्म का नाम: डर्टी पॉलिटिक्स डायरेक्टर: के सी बोकाड़िया स्टार कास्ट: ओम पुरी, मल्लिका शेहरावत, अनुपम खेर, नसीरुद्दीन शाह, जैकी श्रॉफ, सुशांत सिंह, राजपाल यादव, गोविन्द नामदेव, आशुतोष राणाअवधि: 145 मिनटसर्टिफिकेट: Aरेटिंग: 2 स्टार

डर्टी पॉलिटिक्स में मल्लिका का घाघरा नाच

राजकुमार, अमिताभ बच्चन, रजनीकांत, मिथुन चक्रवर्ती, सलमान खान, शाहरुख खान जैसे बड़े-बड़े दिग्गजों के साथ एक से बढ़कर एक फिल्में बनाने वाले निर्माता निर्देशक के सी बोकाडिया लगभग 12 साल के विराम के बाद एक मल्टी स्टारर फिल्म लेकर वापस आए हैं! ख़बरों के अनुसार फिल्म डर्टी पॉलिटिक्स, भंवरी देवी और राजनेता महिपाल मदेरणा के सेक्स टेप की कॉन्ट्रोवर्सी पर आधारित है. ऐसा अक्सर होता है जब एक ही फिल्म में कई बड़े बड़े एक्टर्स दिखें तो या तो फिल्म बहुत अच्छी होती है या फिर बिखर सी जाती है. अब कैसी है डर्टी पॉलिटिक्स, आइये बयान करते हैं-

कहानी:राजनीति के विविध रंगों को दर्शाती फिल्म 'डर्टी पॉलिटिक्स' की केंद्र बिंदु हैं अनोखी देवी (मल्लिका शेहरावत) और मंत्री दीनानाथ (ओम पुरी), अनोखी जो कि एक डांसर है और अपने सपनों को पूरा करने के लिए दीनानाथ के साथ सेक्स करते हुए सब कुछ एक टेप में रिकॉर्ड कर लेती है, और उसका मकसद सिर्फ एक ही है दीनानाथ को ब्लैकमेल करना. अब दीनानाथ साम दाम दंड भेद सब कुछ लगाने की कोशिश करता है और वहीं अनोखी अपने दबाव को कायम रखती है. इस पूरी कवायद में अलग अलग किरदार अनुपम खेर, नसीरुद्दीन शाह, जैकी श्रॉफ, सुशांत सिंह, राजपाल यादव, गोविन्द नामदेव और आशुतोष राणा अपनी-अपनी भूमिकाओं को अंजाम देते हैं. पूरी तरह से कहानी अनोखी देवी के इर्द गिर्द घूमती रहती है और राजनितिक गलियारे के एक अलग दृश्य को बयान करती है. इस फिल्म में भ्र्ष्टाचार और करोड़ों के स्कैम का भी ज़िक्र किया गया है जिसमें लिप्त हैं कई नेता.

क्यों देखें:फिल्म में मल्लिका शेहरावत के मादक और बोल्ड सीन हैं, और मंझे हुए एक्टर्स की धूम है, अगर आप इनके दीवाने हैं तो ये फिल्म ज़रूर देखें. वैसे इस फिल्म को देखने के आपका एडल्ट (वयस्क ) होना भी जरूरी है क्योंकि अपशब्दों और बोल्ड सीन्स की अधिकता है.

क्यों ना देखें:अगर आप घिसी पीटी कहानियों से हटकर कुछ नए की तलाश में हैं तो ये फिल्म आपके लिए बिल्कुल नहीं है. मल्लिका शेहरावत को एक्टिंग की वर्कशॉप की बहुत ज्यादा आवश्यकता है. इतने मंझे हुए एक्टर्स की भीड़ में मल्लिका के बोल्ड सीन के अलावा और कोई भी संवाद प्रभावित नहीं करते.

Read more!

RECOMMENDED