हॉन्ग कॉन्ग में बना वर्ल्ड रिकॉर्ड, 3 मिनट तक किया गया था वीरभद्रासन

हॉन्ग कॉन्ग के इतिहास में अपनी तरह का पहला रिकॉर्ड है, जहां 1011 से अधिक योग प्रैक्टिशनर ने 24 फरवरी को हॉन्ग कॉन्ग के सन यात सेन मेमोरियल पार्क में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए एक ही स्थान पर 3 मिनट के लिए वीरभद्रासन (वॉरिअर 2 पोज़ ) किया.

सन यात सेन मेमोरियल पार्क में में योग करते लोग
मोहित पारीक
  • नई दिल्ली,
  • 21 मार्च 2019,
  • अपडेटेड 3:25 PM IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योग दिवस की पहल को अगले स्तर तक ले जाते हुए, हॉन्ग कॉन्ग और चीन में अपनी अलग पहचान बनाने वाले सोहन गोयनका ने नया मुकाम हासिल कर लिया. उनके संस्थान जापान ऑक्शन हाउस के बैनर तले योग को लेकर एक नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया. हॉन्ग कॉन्ग के इतिहास में यह अपनी तरह का पहला रिकॉर्ड है. जिसमें 1011 से अधिक योग प्रैक्टिशनर ने इसी साल 24 फरवरी को सन यात सेन मेमोरियल पार्क में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए एक ही स्थान पर 3 मिनट के लिए वीरभद्रासन (वॉरिअर 2 पोज़ ) किया. इससे पहले यह गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड 387 योग प्रैक्टिशनर के नाम दर्ज था.

वर्ल्ड स्पोर्ट्स योग फेडरेशन के संचालक सोहन गोयनका ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की सराहनीय पहल में योगदान करने का लक्ष्य रखते हुए, हम पूरी दुनिया को योग के एकजुट करने की शक्ति को समझाना चाहते हैं. सोहन गोयनका के अतिरिक्त यूनरिच ज्वैलरी लिमिटेड के चेयरमैन, जापान ऑक्शन हाउस के अध्यक्ष अनूप कुमार अग्रवाल भी इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने.

रेजिना आईपी जीबीएस, कार्यकारी परिषद के सदस्य और न्यू पीपल्स पार्टी के अध्यक्ष लाई तुंग-क्योक, जूडी चान, इंडियन कॉउंसल की कार्यकारी उच्चायुक्त मृणालिनी श्रीवास्तव, भारतीय परिषद के नारायण सिंह, आर्थिक कॉउंसलेट के मनीष कुमार भी इस विश्व रिकॉर्ड के साक्षी बन गए.

जापान ऑक्शन हाउस और गोयनका ग्रुप के इस चैरिटी इवेंट में दुनियाभर के योगप्रमियों ने भागेदारी की. सोहन गोयनका ने तक़रीबन 4 दशक पहले हॉन्ग कॉन्ग में अपने इंटरनेशनल बिजनेस मॉडल की स्थापना की थी.

इस कार्यक्रम में 1500 स्वयंसेवकों को मुफ्त योग मैट और गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड टी-शर्ट प्रदान की गई और सभी को व्यक्तिगत नाम पर आधिकारिक गिनीज विश्व रिकॉर्ड प्रमाण पत्र प्रदान किया गया था. यह आयोजन योग की बढ़ती लोकप्रियता की मिसाल बन गया.

Read more!

RECOMMENDED