जानिए, पुलिस के हत्थे कैसे चढा छोटा राजन

इंडिया मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया में गिरफ्तार कर लिया गया. मूल रूप से मुंबई के रहने वाले 55 साल के इस माफिया डॉन का असली नाम राजेंद्र सदाशिव निखलजे है. करीब दो दशक से पुलिस की आंखों में धूल झोंकने वाले छोटा राजन को इंटरपोल की मदद से दबोचा गया.

एक फोन कॉल की वजह से पकड़ में आया छोटा राजन
मुकेश कुमार
  • नई दिल्ली,
  • 26 अक्टूबर 2015,
  • अपडेटेड 11:54 AM IST

इंडिया मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया में गिरफ्तार कर लिया गया. मूल रूप से मुंबई के रहने वाले 55 साल के इस माफिया डॉन का असली नाम राजेंद्र सदाशिव निखलजे है. करीब दो दशक से पुलिस की आंखों में धूल झोंकने वाले छोटा राजन को इंटरपोल की मदद से दबोचा गया. सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने शनिवार की दोपहर छोटा राजन की एक फोन कॉल टेप की, जिसमें उसने अपने एक करीबी से कहा कि वह ऑस्ट्रेलिया में खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है. वह बहुत जल्द से यहां से निकल जाएगा. इसके बाद सुरक्षा एजेंसियों उस पर नजर बनाए हुए थीं. रविवार को ऑस्ट्रेलियन फेडेरल पुलिस को खबर मिलती है कि भारतीय मूल का एक नागरिक राजेंद्र सदाशिव निखलजे भारतीय पासपोर्ट नंबर G 9273860 पर गरुड़ा एयरलाइंस से बाली के लिए उड़ा है. खबर जब तक मिली तब तक प्लेन सिडनी एयरपोर्ट छोड़ चुका था.इसके बाद ऑस्ट्रेलियन फेडेरल पुलिस फौरन इंटरपोल के जरिए बाली इमिग्रेशन डिपार्टमेट को इसकी सूचना देती है. खबर मिलते ही बाली एयरपोर्ट फौरन हरकत में आता है. इमिग्रेशन और बाली पुलिस प्लेन लैंड करते ही उस शख्स को फौरन दबोच लेती है, जिसकी सूचना इंटरपोल से मिली रहती है.पासपोर्ट पर दर्ज नाम और फोटो पकड़े गए शख्स से मेल खा जाते हैं. इसी के बाद पता चलता है कि पकड़ा गया शख्स कोई और नहीं बल्कि इंडिया का मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन नंबर दो छोटा राजन उर्फ राजेंद्र सदाशिव निखलजे है. जो पिछले 22 सालों से फरार था.सीबीआई डायरेक्टर अनिल सिन्हा ने बताया कि सीबीआई, इंटेलीजेंस यूनिट, मुंबई क्राइम ब्रांच, ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया पुलिस के साथ इंटरपोल के कोऑर्डिनेशन के जरिए इस ऑपरेशन को सफल बनाया गया. मोहन कुमार के नाम से छोटा राजन यात्रा कर रहा था.

Read more!

RECOMMENDED