...और कितना ज़हर उगलेंगे नेता

जिधर देखो वहीं गुज़ारिश..वहीं अपील. वोट ज़रूर दीजिए. एक अच्छे और मजबूत लोकतंत्र के लिए वोट ज़रूरी भी है. लेकिन क्या सचमुच हम सब लोकतंत्र की हिफाजत के लिए ही वोट देते हैं? क्या ज़ात पात, इलाक़ा, ज़ुबान और धर्म की हमारे चुनाव में कोई अहमियत नहीं है? बिल्कुल अहमियत है. यही कड़ुवा सच है और इसी अहमियत को देखते हुए हमारे नेता ऐसी कड़वी-कड़वी बातें कर रहे हैं कि सुन-सुन कर कान तक सुर्ख हो चुका है. पता नहीं अभी और कितनी ज़हरीली बातें सुनने को मिलेंगी?

नफरत के बीज बो रहे हैं नेता
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 24 अप्रैल 2014,
  • अपडेटेड 2:11 AM IST

जिधर देखो वहीं गुज़ारिश..वहीं अपील. वोट ज़रूर दीजिए. एक अच्छे और मजबूत लोकतंत्र के लिए वोट ज़रूरी भी है. लेकिन क्या सचमुच हम सब लोकतंत्र की हिफाजत के लिए ही वोट देते हैं? क्या ज़ात पात, इलाक़ा, ज़ुबान और धर्म की हमारे चुनाव में कोई अहमियत नहीं है? बिल्कुल अहमियत है. यही कड़ुवा सच है और इसी अहमियत को देखते हुए हमारे नेता ऐसी कड़वी-कड़वी बातें कर रहे हैं कि सुन-सुन कर कान तक सुर्ख हो चुका है. पता नहीं अभी और कितनी ज़हरीली बातें सुनने को मिलेंगी?

आम आदमी पार्टी की नेता शाजिया इलमी भी कहां पीछे रहने वाली है. चुनाव में जीतने के लिए जब तरकश के तीर कम पड़ने लगे तो ज़बान ने जहर उगलना शुरू कर दिया. मुंबई के एक मुस्लिम परिवार के घर में बैठ कर कमाल बोल गईं शाज़िया इलमी. नसीहत दे गईं कि मुसलमान हो तो मुसलमान ही रहो. हिंदू-मुसलिम सिख ईसाई आपस में हैं भाई-भाई को बस नारा ही रहने दो. सेकुलर बनने की कोई ज़रूरत नहीं है. कम्युनल बनो और बस अपने-अपने घर की देखो. देश-वेश को देखने की ज़रूरत नहीं है.

शाजिया ने कहा, 'मैं कहती हूं मुसलमान बहुत सेकुलर है. मुसलमानों को कम्युनल होना पड़ेगा पहली बार. मुसलमान कम्युनल नहीं है. अपनों को नहीं देता है वोट. अरविंद केजरीवाल आपके अपने हैं. हम तो कह रहे हैं सेकुलर बहुत होते हैं मुसलमान. इस बार कांग्रेस को जिता रहे हैं किसी और को चार को नुकसान कर रही है. आप लोग इतने सेकुलर ना होइए. आप अपने घर का देखिए इस बार ना होइए इतने सेकुलर. मुसलमान सेकुलर है नेता देता है औरों को वोट.'

पता नहीं पर किसी ने क्या खूब कहा था कि हम जिन्हें अपने बच्चों का गार्जियन तक बनाना पसंद नहीं करते वो हमारे नेता बन कर पूरे देश का गार्जियन बन बैठते हैं. शाजिया इलमी ने वही किय़ा है. नफरतों के तीर के बीच उन्होंने नफरत की एक और कमान खींच ली. ये हकीकत है कि त्योहार लोकतंत्र का है. और हार जीत अहम है. इस त्योहार में एक की जीत दूसरे की हार का दर्द लिए आती है. मगर इस हार-जीत के लिए हिंदू, मुसलिम, सिख ईसाई, तिवारी, कुरैशी, चौरसिया, मिश्रा, पांडेय, खान, सिंह, चतुर्वेदी को बांट-बांट कर वोट लें तो बटा हुआ हिंदुस्तान ही तो हिस्से में आएगा?

फिर शाजिया ऐसे बयान देकर किसका भला कर रही हैं? मुसलमानों का..देश का...अपनी पार्टी का या खुद का? कमाल देखिए एक तरफ वो कहती हैं कि मुसलमान अपनों को वोट नहीं देता और दूसरी तरफ फौरन कहती हैं कि अरविंद केजरीवाल आपके यानी मुसलमानों के तो अपने हैं. अब ये शाजिया ही समझाएंगी कि अरविंद केजरीवाल सिर्फ मुसलमानों के अपने कब से और कैसे हो गए? क्या बाकी हिंदुस्तानी उनके अपने नहीं हैं?

शाजिया ने एक पूरी मुस्लिम सोच को चुनाव के वक्त देश की सोच से अलग रखने का काम किया है. ऐसा नहीं है कि दूसरे धर्मों के मतदाता भी ऐसा नहीं सोचते. जब उम्मीदवारों का चयन तक वोटरों के धर्म, क्षेत्र और ज़ात-पात को ध्यान में रख कर किया जाता हो तो यह बात तो साबित होती ही है कि दूसरे वोटर भी इसी तरह वोट देते होंगे. लेकिन मुस्लिम वोटरों के दिल और दिमाग़ में ऐसी बातें डाल कर उन्हें अपने वोट को एक डर में समेट कर पेश कर देने के लिए मजबूर करना ऐसे ही नेताओं की देन है.

लेकिन अकेली शाजिया से क्या शिकायत करें. यहां तो इस बार चुनाव का बिगुल बजते ही ज़हर में बुझे ऐसे-ऐसे तीर छोड़े गए हैं कि पूरे देश को लहुलहान कर गया. शाजिया तो सियासत की नई खिलाड़ी हैं. जिन्होंने जेपी के ज़माने से लेकर अन्ना के दौर तक हिंदुस्तानी सड़क से लेकर संसद तक ना मालूंम कितने फासले तय किए. उन सियासतदानों ने भी नफरत के बीज बोने में कोई कमी बाकी नहीं छोड़ी है.

कोई किसी को कम्युनल होने को कह रहा है तो कोई पाकिस्तान भेज देने की बात बोल रहा है. कोई नेताओं के टुकड़े करने की बात कह रहा है तो कोई सीधे बदला लेने की. सिय़ासत ने देश की सेना और सेना के जवानों की शहादत तक को बांट डाला है. नेताओं की ओछी और बेशर्म भाषा का तो हम जिक्र ही नहीं कर रहे हैं. क्योंकि फाय़दा भी नहीं है. ना वो भाषा हम सुना पाएंगे और ना ही आप परिवार के बीच बैठे उसे सुन पाएंगे.

16वीं लोकसभा के चुनावी प्रचार का आगाज़ सियासत के मैदान में एक नए जुमले शहजादे से हुआ. फिर बात चाय वाले तक पहुंची. अब भी सब कुछ मर्यादा में था. लगा चुनावी शोर है और गर्मी का पारा भी चढ़ता जा रहा है इसलिए थोड़ी बहुत तो नोंक-झोंक होगी ही. लेकिन ये गलतफहमी थी. क्योंकि इसके बाद तो जो कुछ हुआ और जो हो रहा है उससे यही लगता है कि चुनाव संसद में बैठने के लिए नहीं बल्कि जंग जीतने का हो रहा है.

ऐसी-ऐसी ज़हरीली बातें हो रही हैं कि कान लाल हो जाए. कई बार तो शक होने लगता है कि क्या वाकई चुनाव अपने ही देश का हो रहा है. अपने ही देश के लोगों के लिए हो रहा है? अगर हां, तो फिर हार-जीत पर पाकिस्तान भेजने की बात क्यों?

Read more!

RECOMMENDED