कोरोना: राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह की राज्यों को हिदायत, वैक्सीन खरीद के लिए न चुनें अलग राह

राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने देश में कोविड-19 वैक्सीन की उपलब्धता और इसके वितरण तंत्र को सुनिश्चित करने की रणनीति पर विचार-विमर्श किया.

सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई)
मिलन शर्मा
  • नई दिल्ली,
  • 12 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 10:51 PM IST

  • देश में बढ़ रहे कोरोना वायरस के मरीज
  • राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह की पहली बैठक

देश और दुनिया में कोरोना वायरस का कोहराम बढ़ता जा रहा है. हर रोज कोरोना वायरस के मामलों में तेजी देखने को मिल रही है. इसके साथ ही कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए भी कई देश लगातार मेहनत कर रहे हैं. इस बीच देश में राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह (एनईजी) की पहली बैठक हुई, जिसमें कोरोना वैक्सीन की खरीद पर चर्चा की गई.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने देश में कोविड-19 वैक्सीन की उपलब्धता और इसके वितरण तंत्र को सुनिश्चित करने की रणनीति पर विचार-विमर्श किया. इस दौरान समूह ने राज्यों को सलाह दी है कि वे टीके की खरीद के लिए अलग-अलग राह न अपनाएं. समूह ने वैक्सीन की खरीद पर केंद्र के फैसले को अहम बताया है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

विशेषज्ञ समूह ने टीकाकरण प्रक्रिया पर नजर रखने के साथ ही टीका प्रबंधन और वितरण तंत्र के लिए एक डिजिटल बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए अवधारणा और कार्यान्वयन तंत्र पर भी विचार-विमर्श किया. उन्होंने देश के लिए कोविड-19 वैक्सीन उम्मीदवारों के चयन के लिए व्यापक मापदंडों पर चर्चा की और टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह की स्थायी तकनीकी उप-समिति (NTAGI) से इनपुट मांगे.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

इसके अलावा विशेषज्ञ समूह ने कोरोना वैक्सीन की खरीद के लिए आवश्यक वित्तीय संसाधनों और उसके वित्तपोषण के विभिन्न विकल्पों पर चर्चा की. कोविड-19 टीकाकरण के लिए वितरण प्लेटफार्म, कोल्ड चेन और रोल आउट से जुड़े बुनियादी ढांचे के संदर्भ में उपलब्ध विकल्प पर भी चर्चा की गई. इसके अलावा टीका सुरक्षा और निगरानी से संबंधित मुद्दों को उठाया गया. वहीं पारदर्शी जानकारी और जागरूकता सृजन के माध्यम से सामुदायिक भागीदारी के लिए रणनीति पर चर्चा की गई.

Read more!

RECOMMENDED