चीन में कल से महासंसद, एंट्री से पहले पत्रकार समेत हर किसी का होगा कोरोना टेस्ट

चीन में शुक्रवार से संसद के सालाना सत्र की शुरुआत हो रही है. यहां नियम बनाया गया है कि हर पत्रकार को कोरोना टेस्ट के बाद ही एंट्री दी जाएगी.

aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 21 मई 2020,
  • अपडेटेड 9:29 AM IST

  • चीन में शुरू होगा संसद का सालाना सत्र
  • एंट्री से पहले हर किसी का होगा कोरोना टेस्ट

कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनियाभर में आलोचना झेल रहा चीन अब वापस पटरी पर लौटने लगा है. शुक्रवार को यहां पर चीनी संसद का सालाना सत्र शुरू हो रहा है, इसके जरिए चीन अपने आने वाले साल के लिए खाका तैयार करेगा. यहां आसपास के देशों से कई पत्रकार कवर करने के लिए पहुंच रहे हैं. ऐसे में आयोजकों की ओर से आदेश जारी किया गया है कि हर पत्रकार को यहां कोरोना वायरस का टेस्ट कराना जरूरी है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्लिक करें

कोरोना वायरस की वजह से चीनी सालाना संसद का सत्र करीब 78 दिनों के लिए टल गया था, जो अब शुक्रवार को शुरू होने जा रहा है. जिसमें मौजूदा चुनौतियों, आर्थिक चुनौती और दुनिया में कोरोनावायरस की स्थिति को लेकर चर्चा होनी है.

संसद में पत्रकारों की एंट्री के लिए कुछ ही सीटें बुक की गई हैं, बाकि अन्य को वीडियो लिंक के जरिए ही वहां से जुड़ना होगा. बीजिंग में नेशनल पीपल कांग्रेस में शुक्रवार से बड़े इवेंट की शुरुआत होगी. बुधवार को यहां हांगकांग, ताइवान समेत अन्य पड़ोस के देशों से पत्रकार पहुंचे.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

लेकिन यहां सबसे पहले हर किसी का एसिड टेस्ट करवाया जाएगा, जिसके बाद पत्रकारों को कुछ घंटे आइसोलेशन में रहना होगा. बुधवार को जो टेस्ट हुए हैं, उनमें सभी का रिजल्ट नेगेटिव आया है. सिर्फ पत्रकार ही नहीं बल्कि हर किसी को यहां इस टेस्ट को करना होगा.

यहां करीब तीन हज़ार लोग जुटेंगे, जो चीन के अलग-अलग हिस्सों से आएंगे. इस दौरान मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर नई गाइडलाइन्स जारी की गई हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आपको बता दें कि चीन में कोरोना वायरस का कहर लगभग खत्म हो चुका है, यहां अब सिर्फ इक्के-दुक्के केस ही सामने आ रहे हैं. चीन में जनवरी, फरवरी में कोरोना वायरस की तबाही अपने चरम पर थी, यहां कुल 85 हजार के लगभग केस और 4000 हजार के करीब मौतें हुई थीं.

Read more!

RECOMMENDED