शहीद सैनिक की बुजुर्ग पत्नी ने पीएम केयर्स फंड में दान की जीवन भर की बचत

बुजुर्ग विधवा दर्शनी देवी 1965 के युद्ध में जान गंवाने वाले शहीद सैनिक की पत्नी हैं. इन्होंने पीएम केयर्स फंड में अपने जीवन भर की जमा पूंजी दो लाख रुपये दान दिए हैं.

दर्शनी देवी (Photo- Aajtak)
मंजीत सिंह नेगी
  • केदारनाथ,
  • 16 मई 2020,
  • अपडेटेड 7:34 PM IST

  • दर्शनी देवी ने पीएम केयर्स फंड में दो लाख रुपये दिए दान
  • पति 1965 की जंग में हुए थे शहीद, 82 साल की है महिला
  • चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत ने भी की तारीफ

कोरोना महामारी से पूरा देश जूझ रहा है. वहीं इससे निपटने के लिए बड़ी हस्तियों, खिलाड़ियों से लेकर आम लोग तक देश सेवा के भाव से पीएम केयर्स फंड में दान दे रहे हैं. ऐसे में एक आदर्श मिसाल उत्तराखंड की एक बुजुर्ग महिला दर्शनी देवी ने भी पेश की है, जो एक शहीद सैनिक की पत्नी हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

उत्तराखंड की 82 वर्षीय दर्शनी देवी ने पीएम केयर्स फंड में अपने जीवन भर की जमा पूंजी दो लाख रुपये इस फंड में दान दिए हैं. ये बुजुर्ग महिला उत्तराखंड के केदारनाथ के पास एक सुदूर गांव से ताल्लुक रखती हैं.

ये बुजुर्ग विधवा महिला 1965 के युद्ध में जान गंवाने वाले शहीद सैनिक की पत्नी हैं. जब दर्शनी देवी के पति शहीद हुए थे तब इनकी आयु महज 22 साल थी. इनके पति सेना में हवलदार के पद पर थे. पाकिस्तान के साथ युद्ध में शहीद हो गए थे.

दर्शनी देवी ने उत्तराखंड में अपने गांव में स्थानीय अधिकारियों के माध्यम से दो लाख रुपये का दान दिया है. 82 वर्षीय दर्शनी देवी की इस पहल की चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत ने भी जमकर तारीफ की है. उन्होंने कहा कि यह वह सेना है जो बीते वर्षों की थी और यही वह सेना है जिस पर भविष्य में उस बदलाव के साथ गर्व करेंगे, जो हम पाने के लिए प्रयासरत हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

उन्होंने कहा कि हमें दर्शनी देवी पर गर्व है. हम में से कई लोगों को इस उदाहरण से सीख लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यदि हम दान नहीं कर सकते हैं तो कम से कम अपने करों का भुगतान करना चाहिए, करों के भुगतान से बचना नहीं चाहिए.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

Read more!

RECOMMENDED