scorecardresearch
 

Subsidy News: खेती की मशीनों पर मिल रही बंंपर सब्सिडी, आवेदन करने का ये है तरीका

Agricultural machinery subsidy: राजस्थान सरकार राष्ट्रीय उद्यानिकी मिशन-उद्यानिकी में यांत्रिकरण के तहत किसानों को सब्सिडी पर खेती की मशीनों पर उपलब्ध करा रही है. सब्सिडी मिलने वाले इन मशीनों के खर्च का 60 प्रतिशत केंद्र सरकार और 40 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाता है.

X
Subsidy on agricultural machinery
Subsidy on agricultural machinery

Subsidy on agricultural machinery: खेती-किसानी में नई-नई तकनीकें और मशीनों का महत्व बढ़ गया है. इससे किसानों की उपज भी बढ़ी है. उपज बढ़ने के साथ किसानों की आय में भी इजाफा हुआ है. इसके बावजूद खेती की इन मशीनों को खरीद पाना लघु और सीमांत किसानों के लिए आसान नहीं है. हालांकि, केंद्र और राज्य सरकार द्वारा खेती की मशीनों पर किसानों को आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाती है.

राजस्थान सरकार  राष्ट्रीय उद्यानिकी मिशन - उद्यानिकी में यांत्रिकरण के तहत किसानों को सब्सिडी पर खेती की मशीनों पर उपलब्ध करा रही है. सब्सिडी मिलने वाले इन मशीनों के खर्च का 60 प्रतिशत केंद्र सरकार और 40 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाता है.

इन मशीनों पर मिलेगी सब्सिडी

>ट्रैक्टर (20 पी.टी.ओ. तक) रोटावेटर/ उपकरण सहित
कुल लागत- रूपये 3-00 लाख प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को लागत का 25 प्रतिशत अधिकतम राशि रूपये 75000- प्रति उपकरण. अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, लघु वं सीमान्त, महिला  कृषकों को लागत का 35 प्रतिशत अथवा अधिकतम राशि रूपये 100000 प्रति उपकरण.

>पावर टिलर (8 बी.एच.पी. से कम)
कुल लागत- रुपये 1.00 लाख प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 40000/- प्रति उपकरण एवं अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, लघु व सीमान्त, महिला कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 50000/- प्रति उपकरण

>पावर टिलर (8 बी.एच.पी. व अधिक)
कुल लागत-रुपये 1.50 लाख प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 60000/-  प्रति उपकरण एवं अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, लघु व सीमान्त, महिला कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 75000/- प्रति उपकरण

>ट्रेक्टर/पावरचलित मशीन(20 बी.एच.पी. तक)

(a)भूमि विकास,  जोत एवं सीड बेड तैयारी उपकरण
कुल लागत-रूपये 30000/- प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 12000/- प्रति उपकरण। अनु. जाति, अनु. जनजाति, लघु एवं सीमान्त एवं महिला  कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 15000/- प्रति उपकरण

( b) बुवाई, रोपाई एवं खुदाई उपकरण
कुल लागत-रूपये 30000/- प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 12000/- प्रति उपकरण। अनु. जाति, अनु. जनजाति, लघु एवं सीमान्त एवं महिला  कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 15000/- प्रति उपकरण

(c) प्लास्टिक मल्च बिछाने की मषीन
कुल लागत-रूपये 70000/- प्रति उपकरण    
अनुदान-सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 28000/- प्रति उपकरण। अनु. जाति, अनु. जनजाति, लघु एवं सीमान्त एवं महिला  कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 35000/- प्रति उपकरण

(d) स्वचालित बागवानी मषीनरी
कुल लागत-रूपये 2.50 लाख प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 100000/- प्रति उपकरण। अनु. जाति, अनु. जनजाति, लघु एवं सीमान्त एवं महिला  कृषकों को अधिकतम राशि रूपये 125000/- प्रति उपकरण

>ट्रैक्टर माउंटेड /ऑपरेटेड स्प्रेयर (35 बी.एच.पी. से अधिक/ इलेक्ट्रोस्टेटिक स्प्रेयर)
कुल लागत-रूपये 1.26 लाख प्रति उपकरण
अनुदान- सामान्य कृषकों को लागत का 40 प्रतिषत अधिकतम राशि रूपये 50000/- प्रति उपकरण एवं अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, लघु व सीमान्त, महिला कृषकों को लागत का 50 प्रतिषत अधिकतम राशि रूपये 63000/- प्रति उपकरण

यहां करें आवेदन

अगर आप राजस्थान के निवासी हैं और इस योजना के तहत खेती की मशीनों पर सब्सिडी का लाभ उठाना चाहते हैं तो ई मित्र पोर्टल या नजदीकी ई-मित्र केंद्र पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. इस दौरान किसानों को शपथ देना होगा कि वह अनुदानित पावर मशीन और उपकरणों का न्यूनतम 5 वर्ष तक विक्रय नहीं करेगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें