scorecardresearch
 

इस योजना से खत्म होगी किसानों की सिंचाई समस्या, UP सरकार ने किया ऐलान

कई राज्यों में जमीनी जल का स्तर नीचे जा चुका है. सिंचाई न मिलने की वजह से फसलों की उपज बुरी तरह से प्रभावित हो रही है. इस स्थिति से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित खेत-तालाब योजना किसानों के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो रही है. योगी सरकार किसानों को खेतों में तालाब बनवाने पर सब्सिडी भी दे रही है.

X
Khet talab yojana
Khet talab yojana

Khet-Talab Yojana: खरीफ फसलों की कटाई लगभग खत्म होने की कगार पर है. कुछ ही दिनों में रबी की फसलों की बुवाई की शुरुआत हो जाएगी. कई जगहों पर तो खेत तैयार किए जाने की प्रकिया की शुरुआत हो चुकी है. किसानों के सामने जो सबसे बड़ी समस्या आती है वह सिंचाई की है.

सिंचाई न मिलने पर फसल की उपज पर पड़ता है असर

कई राज्यों में जमीनी जलस्तर नीचे जा चुका है. इससे फसलों की उपज बुरी तरह से प्रभावित हो रही है. ऐसे में फसल को सही सिंचाई मिल पाए, ये बहुत ही जरूरी है. इस स्थिति से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित खेत-तालाब योजना किसानों के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो रही है.

खेतों में तालाब बनवाने पर 50 फीसदी सब्सिडी

किसान खेत में तालाब बनवाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार से 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी हासिल कर सकते हैं. सिंचाई के साथ-साथ इस तालाब में मछली पालन कर किसान अतिरिक्त मुनाफा भी कमा सकते हैें.

इस आकार के तालाब पर मिलेंगे इतने रुपये

छोटे तालाब – (22×20×3 मी०) लागत/तालाब – रु. 105000
मध्यम तालाब- (35×30×3 मी०) लागत/तालाब-रु. 228400
सब्सिडी की राशि किसानों के खाते में तीन किस्तों में भेजी जाएगी. छोटे तालाब के निर्माण में किसानों के खाते में 52500 रुपये की सब्सिडी आएगी. वहीं मध्यम तालाब के निर्माण के दौरान किसानों के खाते में 114,200 रुपये आ जाएंगे.

इच्छुक किसान यहां कर सकते हैं आवेदन

इच्छुक किसान उत्तर प्रदेश के पारदर्शी किसान सेवा योजना पर जाकर इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं. इसके लिए आवेदन शुल्क 1000 रुपए रखा गया है. जिलाधिकारी द्वारा अनुमोदित सूची के आधार पर लाभार्थियों का चयन किया जाएगा. अनुसूचित जाति/जनजाति, अल्पसंख्यक तथा लघु/सीमान्त कृषकों को इस योजना के लिए प्राथमिकता दी जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें