scorecardresearch
 

शरबती गेहूं की करते हैं खेती तो सरकार के इस फैसले से हो जाएंगे खुश, ऐसे बढ़ेगी किसानों की आय

Sarbati wheat cultivation: सीहोर शरबती गेहूं के उत्पादन के लिए दुनिया भर में लोकप्रिय है. सरकार का मानना है कि अगर शरबती गेहूं के निर्यात में इजाफा होता है तो किसानों की आय में निश्चित ही बढ़ेगी. फिलहाल, शरबती गेहूं को जीआई कराने की कवायद जारी है.

X
 Sarbati wheat cultivation
 Sarbati wheat cultivation

Sarbati wheat cultivation: देश की अर्थव्यवस्था पर काफी हद तक खेती-किसानी पर निर्भर है. यही वजह है कि हाल के कुछ सालों से सरकार की तरफ से किसानों की आय में इजाफा करने के कई प्रयास किए गए. इसी कड़ी में खेती-किसानी से जुड़े प्रोडक्ट्स के एक्सपोर्ट्स को बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. दरअसल, देशभर के लगभग 75 जिलों का चयन डिस्ट्रिक्ट एक्सपोर्ट हब बनाने के लिए शामिल किया है.

मध्य प्रदेश के सीहोर का भी किया गया है चयन 

इन 75 जिले में मध्य प्रदेश के 3 जिले भी शामिल है. इसमें सीहोर जिले का भी चयन किया गया है. सीहोर शरबती गेहूं के उत्पादन के लिए दुनिया भर में लोकप्रिय है. सरकार का मानना है कि अगर शरबती गेहूं के निर्यात में इजाफा होता है तो किसानों की आय में निश्चित ही बढ़ेगी. यहां के बुधनी के लकड़ी के उत्पादों को भी विश्व भर में एक अलग पहचान दिलाने की कवायद जारी है.

जीआई टैग दिलाने के लिए कवायद जारी
 
फिलहाल, शरबती गेहूं को सरकार की तरफ से अभी जीआई टैग नहीं मिल पाया है. लेकिन इसको लेकर मध्य प्रदेश सरकार की कोशिशें जारी है. माना जा रहा है कि जल्द ही यह उत्पाद इस माइलस्टोन को भी हासिल कर लेगा. 

क्या है शरबती गेहूं?

शरबती मध्य प्रदेश को ज्ञात सर्वोत्तम गुणवत्ता वाला गेहूं है. शरबती आटा स्वाद में मीठा और बनावट में अन्य की तुलना में बेहतर होता है. शरबती के आटे के दाने आकार में बड़े होते हैं. में काली और जलोढ़ उपजाऊ मिट्टी है जो इसके लिए एकदम उपयुक्त है. इसे गोल्डन ग्रेन भी कहा जाता है.

नए व्यवसायों को दिया जाएगा बढ़ावा

मध्य प्रदेश के अलावा कई अन्य राज्यों के जिले को भी इसमें चयन किया गया है. इन जिलों में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए कई प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगीं. कोशिश होगी कि इसके माध्यम से नए व्यवसायों को और आगे बढ़ाया जाए. साथ ही उन्हें निर्यात के लिए प्रोत्साहित किया जाए. इसमें बड़ी संख्या में युवा और ग्रामीण जुड़ सकेंगे.


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें