scorecardresearch
 

ICAR Online Portal For Spice Seeds: किसानों को नहीं करनी पड़ेगी मशक्कत, अब घर बैठे ऑर्डर करें मसाला फसलों के बीज

ICAR Online Portal For Spice Seeds: मसाला फसलों की खेती करने वाले किसानों के सामने सबसे बड़ी चुनौती ये है कि इनके बीज आसानी से बाजार में उपलब्ध नहीं होते हैं. अगर उपलब्ध भी हैं तो उन्हें इसके लिए लंबी लाइन लगानी पड़ती है. काफी मशक्कत के बाद बीज खरीदने में सफल होते हैं.

X
ICAR Online Portal For Spice seeds: ICAR Online Portal For Spice seeds:
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ऑनलाइन पोर्टल के जरिए मसाला बीजों का करें ऑर्डर
  • किसान घर बैठे मंगा सकते हैं फसलों के बीज

ICAR Online Portal For Spice Seeds: मसाला फसलों की खेती करने वाले किसानों को लेकर राष्ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केंद्र ने एक बड़ा फैसला किया है. अब किसान घर बैठे धनिया, जीरा, सौंफ, मेथी, अजवाइन, कलौंजी और जीरा के बीजों को ऑनलाइन मंगा सकते हैं. इसके लिए किसान भाइयों को अनुंसधान केंद्र द्वारा हाल ही में लॉन्च किए गए ऑनलाइन पोर्टल के जरिए इन बीजों के लिए ऑर्डर देना होगा.

बता दें कि मसाला फसलों की खेती करने वाले किसानों के सामने सबसे बड़ी चुनौती ये है कि इनके बीज आसानी से बाजार में उपलब्ध नहीं होते हैं. अगर उपलब्ध भी हैं तो उन्हें इसके लिए लंबी लाइन लगानी पड़ती है. काफी मशक्कत के बाद ही बीज खरीदने में सफल होते हैं.

राजस्थान के अजमेर में स्थित राष्ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केंद्र (ICAR-National Research Centre on Seed Spices) ने बीजीय मसालों की बीजों के लिए ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया है. साथ ही इस पोर्टल को एसबीआई के 'योनो कृषि एप' से भी कनेक्ट किया है, वहां से भी किसान बीजों के लिए ऑर्डर कर सकते हैं.ज्यादातर किसानों का बैंक खाता एसबीआई रहता है, इससे वो आसानी से ऑर्डर कर सकते हैं.
 
राष्ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केंद्र  के इस फैसले  से राजस्थान के अलावा दूसरे राज्यों के किसानों के लिए भी मसाला बीजों को खरीदना आसान हो गया है. इसके अलावा केंद्र द्वारा इस पोर्टल को हिंदी और अंग्रेजी के साथ 10 अन्य भाषाओं में उपलब्ध कराया जा रहा है 

अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (आईएसओ) द्वारा सूचीबद्ध 109 मसालों में से, भारत अपने विविध कृषि-जलवायु क्षेत्रों के कारण 63 मसालों का उत्पादन करता है. इसके अलावाबीज मसाले देश के कुल मसाला उत्पादन का 45 प्रतिशत क्षेत्र और लगभग 18 प्रतिशत हिस्सा साझा करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें