scorecardresearch
 

Pulses Procurement on MSP: खुशखबरी! इस राज्य में एमएसपी पर होगी इन फसलों की खरीद, देखें लिस्ट

Pulses Procurement on minimum support price: छत्तीसगढ़ में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अरहर, उड़द और मूंग की फसलों की खरीद के लिए कृषि विकास एवं किसान कल्याण मंत्रालय और जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सभी संभागीय आयुक्तों, कलेक्टरों, मार्कफेड और मंडी बोर्ड को दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. खरीद केंद्रों पर मार्कफेड को इसके लिए सभी जरूरी व्यवस्थाओं को पूरा करने को कहा गया है.

X
Chhattisgarh government decided to procure pulses on MSP Chhattisgarh government decided to procure pulses on MSP
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मार्कफेड को तैयारियों का निर्देश
  • खरीदी केन्द्रों पर किसानों की होगी टैगिंग

Pulses Procurement on MSP: छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों को एक बड़ा तोहफा दिया है. भूपेश बघेल सरकार ने सीजन 2022-23 में अरहर, उड़द और मूंग की खरीद एमएसपी पर खरीदने का फैसला किया है. इसको लेकर सरकार ने राज्य सहकारी विपणन संघ मार्कफेड को निर्देश भी दे दिया है. किसानों से अरहर और उड़द 6600 रुपये और मूंग 7755 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदी जाएगी.

कब से शुरू होगी खरीद

17 अक्टूबर 2022 से 16 दिसंबर 2022 तक उड़द और मूंग की खरीद की जाएगी और 13 मार्च 2023 से 12 मई 2023 तक अरहर की खरीद होगी. अरहर, मूंग की खरीद के लिए गोदाम और भंडारण सुविधाओं वाली 25 कृषि उपज मंडियों को खरीद केंद्रों के रूप में चिह्नित किया गया है. 

सरकार ने मार्कफेड को दिए निर्देश

राज्य में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अरहर, उड़द और मूंग की फसलों की खरीद के लिए कृषि विकास एवं किसान कल्याण मंत्रालय और जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सभी संभागीय आयुक्तों, कलेक्टरों, मार्कफेड और मंडी बोर्ड को  दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. खरीद केंद्रों पर मार्कफेड को इसके लिए सभी जरूरी व्यवस्थाओं को पूरा करने को कहा गया है.

यूनिफाईड फार्मर पोर्टल पर कृषक का पंजीयन कर उपलब्ध डाटा नाफेड को दिया जाएगा. डाटा को ई-समृद्धि पोर्टल में खरीदी के लिए इंटीग्रेड किया जाएगा. चयनित खरीदी केन्द्रों में किसानों की टैगिंग की जाएगी.

होगी मॉनीटरिंग

खरीद केंद्रों में किसानों की सामान्य जानकारी के लिए एफएक्यू उत्पाद का प्रदर्शन सुनिश्चित किया जाएगा कि अरहर, उड़द और मूंग उपार्जन केंद्र में समर्थन मूल्य से कम पर न बेचे जाएं. अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न गुणवत्ता खरीद की बारीकी से निगरानी की जाएगी. रैंडम सैंपलिंग के लिए नैफेड के साथ राज्य स्तरीय संयुक्त टीम बनाई जाएगी, जो तैयारी से लेकर कलेक्शन तक खरीद केंद्र का निरीक्षण करेगी. किसान से खरीदी गई मात्रा की मुद्रित रसीद जिसमें देय राशि का उल्लेख है, उपार्जन केंद्र के प्रभारी द्वारा हस्ताक्षर करने के बाद किसान को दी जाएगी.

अनुमानित उत्पादन 1.76 लाख मीट्रिक टन

खरीफ सीजन 2022 में एक लाख 40 हजार हेक्टेयर में अरहर, 22 हजार हेक्टेयर में मूंग और एक लाख 75 हजार हेक्टेयर में उड़द की खेती का लक्ष्य है. कृषि विभाग ने राज्य में 94,500 मीट्रिक टन अरहर, 12,100 मीट्रिक टन मूंग और 70,000 मीट्रिक टन उड़द के उत्पादन का अनुमान लगाया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें